Fandom

Hindi Literature

बातनिहीं सुत लाइ लियौ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

बातनिहीं सुत लाइ लियौ ।
तब लौं मधि दधि जननि जसोदा, माखन करि हरि हाथ दियौ ॥
लै-लै अधर परस करि जेंवत, देखत फूल्यौ मात-हियौ ।
आपुहिं खात प्रसंसत आपुहिं, माखन-रोटी बहुत प्रियौ ॥
जो प्रभु सिव-सनकादिक दुर्लभ, सुत हित जसुमति-नंद कियौ ।
यह सुख निरखत सूरज प्रभु कौ, धन्य-धन्य पल सुफल जियौ ॥

भावार्थ :-- यशोदा ने अपने पुत्र को बातें में लगा लिया और तब तक दही मथकर मक्खन श्याम के हाथ पर रख दिया । मोहन (थोड़ा-थोड़ा माखन) ले-लेकर होठ से छुला कर खा रहे हैं, यह देखकर माता का हृदय प्रफुल्लित हो गया है, स्वयं ही खाते हैं और स्वयं ही प्रशंसा करते हैं, मक्खन-रोटी इन्हें बहुत प्रिय है । जो प्रभु शिव और सनकादि ऋषियों को भी दुर्लभ हैं, उन्हें पुत्र बनाकर यशोदा जी और नन्दबाबा उनसे(वात्सल्य) प्रेम कर रहे हैं । अपने स्वामी का यह आनन्द देखकर सूरदास इस क्षण को परम धन्य मानता है, जीवन का यही सुफल है (कि श्याम की बाल-लीला के दर्शन हों)।

Also on Fandom

Random Wiki