Fandom

Hindi Literature

बार-बार जसुमति सुत बोधति / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग-कन्हारौ

बार-बार जसुमति सुत बोधति, आउ चंद तोहि लाल बुलावै ।
मधु-मेवा-पकवान-मिठाई, आपुन खैहै, तोहि खवावै ॥
हाथहि पर तोहि लीन्हे खेलै नैकु नहीं धरनी बैठावै ।
जल-बासन कर लै जु उठावति, याही मैं तू तन धरि आवै ॥
जल-पुटि आनि धरनि पर राख्यौ, गहि आन्यौ वह चंद दिखावै ।
सूरदास प्रभु हँसि मुसुक्याने, बार-बार दोऊ कर नावै ॥


भावार्थ :-- श्रीयशोदा जी अपने पुत्र को चुप करने के लिये बार-बार कहती हैं-`चन्द्र! आओ । तुम्हें मेरा लाल बुला रहा है । यह मधु, मेवा, पकवान और मिठाइयाँ स्वयं खायेगा तथा तुम्हें भी खिलायेगा । तुम्हें हाथ पर ही रखकर (तुम्हारे साथ)खेलेगा, थोड़ी देर के लिये भी पृथ्वी पर नहीं बैठायेगा ।'फिर हाथ में पानी से भरा बर्तन उठाकर कहती हैं-`चन्द्रमा! तुम शरीर धारण करके इसी बर्तन में आ जाओ।' फिर जल का बर्तन लाकर पृथ्वी पर रख दिया और दिखाने लगीं-` लाल! वह चन्द्रमा मैं पकड़ लायी।' सूरदास जी कहते हैं कि (जल में चन्द्रबिम्ब देखकर) मेरे प्रभु हँस पड़े और मुसकराते हुए दोनों हाथ (पानी में) डालने लगे ।

Also on Fandom

Random Wiki