Fandom

Hindi Literature

बाल बिनोद खरो जिय भावत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल

बाल बिनोद खरो जिय भावत ।
मुख प्रतिबिंब पकरिबे कारन हुलसि घुटुरुवनि धावत ॥
अखिल ब्रह्मंड-खंड की महिमा, सिसुता माहिं दुरावत ।
सब्द जोरि बोल्यौ चाहत हैं, प्रगट बचन नहिं आवत ॥
कमल-नैन माखन माँगत हैं करि करि सैन बतावत ।
सूरदास स्वामी सुख-सागर, जसुमति-प्रीति बढ़ावत ॥

(श्यामसुन्दर का) बालविनोद हृदय को अत्यन्त प्रिय लगता है । अपने मुख का प्रतिबिम्ब पकड़ने के लिये वे बड़े उल्लास से घुटनों के बल दौड़ते हैं । इस प्रकार निखिल ब्रह्माण्ड नायक होने का माहात्म्य अपनी शिशुता में वे छिपाये हुए हैं । शब्दों को एकत्र करके कुछ कहना चाहते हैं, किंतु स्पष्ट बोलना आता नहीं है । वे कमललोचन मक्खन माँगना चाहते हैं, इससे बार-बार संकेत करके समझा रहे हैं । सूरदास जी कहते हैं कि मेरे स्वामी सुखके समुद्र हैं, वे माता यशोदा के वात्सल्य-प्रेम को बढ़ा रहे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki