Fandom

Hindi Literature

बिहरत गोपाल राइ, मनिमय रचे अँगनाइ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग ललित

(माई) बिहरत गोपाल राइ, मनिमय रचे अँगनाइ , लरकत पररिंगनाइ, घूटुरुनि डोलै । निरखि-निरखि अपनो प्रति-बिंब, हँसत किलकत औ, पाछैं चितै फेरि-फेरि मैया-मैया बोलै ॥ जौं अलिगन सहित बिमल जलज जलहिं धाइ रहै, कुटिल अलक बदन की छबि, अवनी परि लोलै । सूरदास छबि निहारि, थकित रहीं घोष नारि, तन-मन-धन देतिं वारि, बार-बार ओलै ॥

सखी ! मणिमय सुसज्जित आँगन में गोपाललाल क्रीड़ा कर रहे हैं । घुटनों चलते हैं,चारों ओर सरकते-घूमते लड़खड़ाते हैं, बार-बार (मणीभूमि में) अपना प्रतिबिंबदेख-देखकर हँसते और किलकारी मारते हैं, घूम-घूमकर पीछे देख-देखकर`मैया-मैया बोलते हैं । जैसे मँडराते भौरों के साथ निर्मल कमल पानी पर बहता जाता हो, इस प्रकार घुँघराली अलकों से घिरे चंचल मुख की शोभा मणिभूमि में (प्रतिबिम्बित होकर) हो रही है । सूरदास जी कहते हैं कि इस शोभा को देखकर व्रज की स्त्रियाँ थकित (शिथिलदेह) हो रहीं,तन,मन, धन -वे निछावर किये देती हैं और बार-बार उसी (मोहन) की शरण लेती (उसी को देखने आ जाती) हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki