Fandom

Hindi Literature

बेटियाँ / कुँवर बेचैन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: कुँअर बेचैन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

बेटियाँ-

शीतल हवाएँ हैं

जो पिता के घर बहुत दिन तक नहीं रहतीं

ये तरल जल की परातें हैं

लाज़ की उज़ली कनातें हैं

है पिता का घर हृदय-जैसा

ये हृदय की स्वच्छ बातें हैं

बेटियाँ -

पवन-ऋचाएँ हैं

बात जो दिल की, कभी खुलकर नहीं कहतीं

हैं चपलता तरल पारे की

और दृढता ध्रुव-सितारे की

कुछ दिनों इस पार हैं लेकिन

नाव हैं ये उस किनारे की

बेटियाँ-

ऐसी घटाएँ हैं

जो छलकती हैं, नदी बनकर नहीं बहतीं

Also on Fandom

Random Wiki