FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER


बासुदेव की बड़ी बड़ाई ।
जगत पिता, जगदीस, जगत-गुरु, निज भक्तनि-की सहत ढिठाई ।
भृगु कौ चरन राखि उर ऊपर, बोले बचन सकल-सुखदाई ।
सिव-बिरंचि मारन कौं धाए, यह गति काहू देव न पाई ।
बिनु-बदलैं उपकार करत हैं, स्वारथ बिना करत मित्राई ।
रावन अरि कौ अनुज विभीषन, ताकौं मिले भरत की नाई ।
बकी कपट करि मारन आई, सौ हरि जू बैकुंठ पठाई ।
बिनु दीन्हैं ही देत सूर-प्रभु, ऐसे हैं जदुनाथ गुसाईं ॥1॥

प्रभु कौ देखौ एक सुभाइ ।
अति-गंभीर-उदार-उदधि हरि, जान-सिरोमनि राइ ।
तिनका सौं अपने जनकौ गुन मानत मेरु-समान ।
सकुचि गनत अपराध-समुद्रहिं बूँद-तुल्य भगवान ।
बदन-प्रसन्न कमल सनमुख ह्वै देखत हौं हरि जैसें ।
बिमुख भए अकृपा न निमिषहूँ, फिरि चितयौं तौ तैसें ।
भक्त-बिरह-कातर करुनामय, डोलत पाछैं लागे ।
सूरदास ऐसे स्वामौ कौं देहिं पीठि सो अभागे ॥2॥


रामभक्तवत्सल निज बानौं ।
जाति, गोत कुल नाम, गनत नहिं, रंक होइ कै रानौं ।
सिव-ब्रह्मादिक कौन जाति प्रभु, हौं अजान नहिं जानौं ।
हमता जहाँ तहाँ प्रभु नाहीं, सो हमता क्यौं मानौं ?
प्रगट खंभ तैं दए दिखाई, जद्यपि कुल कौ दानौ ।
रघुकुल राघव कृष्न सदा ही, गोकुल कीन्हौं थानौ ।
बरनि न जाइ भक्त की महिमा, बारंबार बखानौं ।
ध्रुव रजपूत, बिदुर दासी-सुत कौन कौन अरगानौ ।
जुग जुग बिरद यहै चलि आयौ, भक्तनि हाथ बिकानौ ।
राजसूय मैं चरन पखारे स्याम लिए कर पानौ ।
रसना एक, अनेक स्याम-गुन, कहँ लगि करौं बखानौ !
सूरदास-प्रभु की महिमा अति, साखी बेद पुरानी ॥3॥


काहू के कुल तन न विचारत ।
अबिगत की गति कहि न परति है, व्याध अजामिल तारत ।
कौन जाति अरु पाँति बिदुर की, ताही कैं पग धारत ।
भोजन करत माँगि घर उनकैं, राज मान-मद टारत ।
ऐसे जनम-करम के ओछनि हूँ ब्यौहारत ।
यहै सुभाव सूर के प्रभु कौ, भक्त-बछल-पन पारत ॥4॥


सरन गए को को न उबार्‌यौ ।
जब जब भीर परी संतनि कौं, चक्र सुदरसन तहाँ सँभार्‌यौ ।
भयौ प्रसाद जु अंबरीष कौं, दुरबासा को क्रोध निवार्‌यौ ।
ग्वालिन हेत धर्‌यौ गोबर्धन, प्रगट इंद्र कौ गर्ब प्रहार्‌यौ ।
कृपा करी प्रहलाद भक्त पर, खंभ फारि हिरनाकुस मार्‌यौ ।
नरहरि रूप धर्‌यौ करुनाकर, छिनक माहिं उर नखनि बिदार्‌यौ ।
ग्राह ग्रसत गज कौं जल बूड़त, नाम लेत वाकौ दुख टार्‌यौ ।
सूर स्याम बिनु और करै को, रंग भूमि मैं कंस पछार्‌यौ ॥5॥


स्याम गरीबनि हूँ के गाहक ।
दीनानाथ हमारे ठाकुर , साँचे प्रीति-निवाहक ।
कहा बिदुर की जाति-पाँति, कुल, प्रेमी-प्रीति के लाहक ।
कह पांडव कैं घर ठकुराई ? अरजुन के रथ-बाहक ।
कहा सुदामा कैं धन हौ ? तौ सत्य-प्रीति के चाहक ।
सूरदास सठ, तातैं हरि भजि आरत के दुख-दाहक ॥6॥

जैसें तुम गज कौ पाउँ छुड़ायौ ।
अपने जन कौं दुखित जानि कै पाउँ पियादे धायौ ।
जहँ जहँ गाढ़ परी भक्तनि कौं, तहँ तहँ आपु जनायौ ।
भक्ति हेतु प्रहलाद उबार्‌यौ, द्रौपदि-चीर बढ़ायौ ।
प्रीति जानि हरि गए बिदुर कैं, नामदेव-घर छायौ ।
सूरदास द्विज दीन सुदामा, तिहिं दारिद्र नसायौ ॥7॥


जापर दीनानाथ ढरै ।
सोइ कुलीन, बड़ौ सुंदर सोइ, जिहिं पर कृपा करै ।
कौन विभीषन रंक-निसाचर हरि हँसि छत्र धरै ।
राजा कौन बड़ौ रावन तैं, गर्बहिं-गर्ब गरै ।
रंकव कौन सुदामाहूँ तैं आप समान करे ।
अधम कौन है अजामील तें जम तहँ जात डरै ।
कौन विरक्त अधिक नारद तैं, निसि-दिन भ्रमत फिरै ।
जोगी कौन बड़ौ संकर तैं, ताकौं काम छरै ।
अधिक कुरूप कौन कुबिजा तैं, हरि पति पाइ तरै ।
अधिक सुरूप कौन सीता तैं, जनम बियोग भरै ।
यह गति-मति जानै नहिं कोऊ, किहिं रस रसिक ढरै ।
सूरदास भगवंत-भजन बिनु फिरि फिरि जठर जरै ॥8॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki