Fandom

Hindi Literature

भीतर तैं बाहर लौं आवत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग-गौरी


भीतर तैं बाहर लौं आवत ।
घर-आँगन अति चलत सुगम भए, देहरि अँटकावत ॥
गिरि-गिरि परत, जात नहिं उलँघी, अति स्रम होत नघावत ।
अहुँठ पैग बसुधा सब कीनी, धाम अवधि बिरमावत ॥
मन हीं मन बलबीर कहत हैं, ऐसे रंग बनावत ।
सूरदास प्रभु अगनित महिमा, भगतनि कैं मन भावत ॥

भावार्थ :-- कन्हाई घर के भीतर से अब बाहर तक आ जाते हैं । घर में और आँगन में चलना अब उनके लिये सुगम हो गया है; किंतु देहली रोक लेती है । उसे लाँघा नहीं जाता है, लाँघने में बड़ा परिश्रम होता है, बार-बार गिर पड़ते हैं । बलराम जी (यह देखकर) मन-ही-मन कहते हैं - `इन्होंने (वामनावतार में) पूरी पृथ्वी तो साढ़े तीन पैर में नाप ली और ऐसा रंग-ढंग बनाये हैं कि घर की देहली इन्हें रोक रही है ।' सूरदास के स्वामी की महिमा गणना में नहीं आती, वह भक्तों के चित्त को रुचती (आनन्दित करती) है ।

Also on Fandom

Random Wiki