Fandom

Hindi Literature

भूले स्वाद बेर के / नागार्जुन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: नागार्जुन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

सीता हुई भूमिगत, सखी बनी सूपन खा

बचन बिसर गए गए देर के सबेर के !

बन गया साहूकार लंकापति विभीषण

पा गए अभयदान शावक कुबेर के !

जी उठा दसकंधर, स्तब्ध हुए मुनिगण

हावी हुआ स्वर्थामरिग कंधों पर शेर के !

बुढ्भंस की लीला है, काम के रहे न राम

शबरी न याद रही, भूले स्वाद बेर के !


१९६१ में लिखी गई

Also on Fandom

Random Wiki