Fandom

Hindi Literature

भेद कुल खुल जाए / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

लेखक: सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

भेद कुल खुल जाए वह सूरत हमारे दिल में है ।

देश को मिल जाए जो पूँजी तुम्हारी मिल में है ।।


हार होंगे हृदय के खुलकर तभी गाने नये,

हाथ में आ जायेगा, वह राज जो महफिल में है ।


तरस है ये देर से आँखे गड़ी श्रृंगार में,

और दिखलाई पड़ेगी जो गुराई तिल में है ।


पेड़ टूटेंगे, हिलेंगे, जोर से आँधी चली,

हाथ मत डालो, हटाओ पैर, बिच्छू बिल में है ।


ताक पर है नमक मिर्च लोग बिगड़े या बनें,

सीख क्या होगी पराई जब पसाई सिल में है ।

Also on Fandom

Random Wiki