Fandom

Hindi Literature

भोर भयौ जागो नँदनंदन / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

भोर भयौ जागो नँदनंदन ।संग सखा ठाढ़े जग-बंदन ॥
सुरभी पय हित बच्छ पियावैं ।पंछी तरु तजि दहुँ दिसि धावैं ॥
अरुन गगन तमचुरनि पुकार्‌यौ ।सिथिल धनुष रति-पति गहि डार्‌यौ ॥
निसि निघटी रबि-रथ रुचि साजी ।चंद मलिन चकई रति-राजी ॥
कुमुदिन सकुची बारिज फूले ।गुंजत फिरत अलि-गन झूले ॥
दरसन देहु मुदित नर-नारी ।सूरज-प्रभु दिन देव मुरारी ॥

नन्दनन्दन ! सबेरा हो गया, अब जागो । हे विश्व के वन्दनीय ! तुम्हारे सब सखा द्वार पर खड़े हैं । गायें प्रेम से बछड़ों को दूध पिला रही हैं, पक्षी पेड़ों को छोड़कर दसों दिशाओं में उड़ने लगे हैं । आकाश में अरुणोदय देखकर मुर्गे बोल रहे हैं । कामदेव ने हाथ में लिया धनुष डोरी उतारकर रख दिया है । रात्री व्यतीत हो गयी, भली प्रकार सजा सूर्य का रथ प्रकट हो गया । चन्द्रमा मलिन पड़ गया और चक्रवाकी अपने जोड़े से मिलकर प्रसन्न हो गयी । कुमुदिनियाँ कुम्हिला गयीं । कमल फूल उठे, उन पर मँडराते भौंरे गुंजार कर रहे हैं । सूरदास जी कहते हैं कि मेरे सदा के आराध्यदेव श्रीमुरारि! अब दर्शन दो, जिससे (व्रज के) स्त्री -पुरुष आनन्दित हों ।

Also on Fandom

Random Wiki