Fandom

Hindi Literature

मथुरा प्रयाण / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


अब नँद गाइ लेहु सँभारि ।
जो तुम्हारैं आनि बिलमे, दिन चराई चारि ॥
दूध दही खवाइ कीन्हेम बड़ अति प्रतिपारि ।
दूध दही खवाइ कीन्हे, बड़ अति प्रतिपारि ।
ये तुम्हारे गुन हृदय तैं; डारिहौं न बिसारि ॥
मातु जसुदा द्वार ठाढ़ी, चलै आँसू ढारि ।
कह्यौ रहियौ सुचित सौं, यह ज्ञान गुर उर धारि ॥
कौन सुत, को पिता-माता देखि हृदै बिचारि ।
सूर के प्रभु गवन कीन्हौं, कपट कागद फारि ॥1॥

जबहीं रथ अक्रूर चढ़े ।
तब रसना हरि नाम भाषि कै, लोचन नीर बढ़े ॥
महरि पुत्र कहि सोर लगायौ, तरु ज्यौं धरनि लुटाइ ।
देखतिं नारि चित्र सी ठाढ़ी, चितये कुँवर कन्हाइ ॥
इतनैं हि मैं सुख दियौ सबनि कौं, दीन्ही अवधि बताइ ।
तनक हँसे, हरि मन जुवतिन कौं निठुर ठगौरी लाइ ॥
बोलतिं नहीं रहीं सब ठाढ़ी, स्याम-ठगीं ब्रज नारि ।
सूर तुरत मधुबन पग धारे, धरनी के हितकारि ॥2॥

रहीं जहाँ सो तहाँ सब ठाढ़ीं ।
हरि के चलत देखियत ऐसी, मनहु चित्र लिखि काढ़ी ॥
सूखे बदन, स्रवनि नैननि तैं, जल-धारा उर बाढ़ी ।
कंधनि बाँह धरे चितवतिं मनु, द्रुमनि बेलि दव दाढ़ी ॥
नीरस करि छाँड़ी सुफलक सुत, जैसें दूध बिनु साढ़ी ।
सूरदास अक्रूर कृपा तैं, सही विपति तन गाढ़ी ॥3॥

बिछुरत श्री ब्रजराज आजु, इनि नैननि की परतीति गई ।
उड़ि न गए हरि संग तबहिं तैं, ह्वै न गए सखि स्याममई ॥
रूप रसिक लालची कहावत , सो करनी कछुवै न भई ।
साँचे क्रूर कुटिल यै लोचन, वृथा मीन-छवि छीन लई ॥
अक काहैं जल-मोचत, सोचत, सभौ गए तैं सूल नई ।
सूरदास याही तैं जड़ भए, पलकनिहूँ हठि दगा दई ॥4॥

आजु रैनि नहिं नींद परी ।
जागत गिनत गगनके तारे, रसना हटत गोविंद हरी ॥
वह चितवनि, वह रथ की बैठनि, जब अक्रूर की बाहँ गही ।
चितवति रही ठगीसी ठाढ़ी, कहि न सकति कछु काम दही ॥
इते मान व्याकुल भइ सजनी, आरज पंथहुँ तैं बिडरी ।
सूरदास-प्रभु जहाँ सिधारे, कितिक दूर मथुरा नगरी ॥5॥

री मोहिं भवन भयानक लागै, माई स्याम बिना ।
कहि जाइ देखौं भरि लोचन, जसुमति कैं अँगना ॥
को संकट सहाइ करिबे कौं, मेटै बिघन घना ।
लै गयौ क्रूर अक्रूर साँवरी, ब्रज कौ प्रानधना ॥
काहि उठाइ गोद करि लीजै, करि करि मन मगना ।
सूरदास मोहन दरसन बिनु, सुख संपति सपना ॥6॥

कहा हौं ऐसै ही मरि जैहौं ।
इहिं आँगन गोपाल लाल कौ, कबहुँ कि कनिया लैहौं ॥
कब वह मुख बहुरौ देखौंगी, कह वैसो सचुपैहौं ।
कब मोपै माखन माँगैगे, कब रोटी धरि देहौं ॥
मिलन आस तन-प्रान रहत हैं, दिन दस मारग ज्वैहौं ।
जौ न सूर अइहैं इते र, जाइ जमुन धसि लैहौं ॥7॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki