Fandom

Hindi Literature

मध्यम मान / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


स्याम दिया सन्मुख नहिं जोवत ।
कबहुँ नैन की कोर निहारत, कबहुँ बदन पुनि गोवत ।
मन मन हँसत त्रसत तनु परगट, सुनत भावती बात ।
खंडित बचन सुनत प्यारी के पुलक होत सब गात ।
यह सुख सूरदास कछु जानै, प्रभु अपने कौ भाव ।
श्रीराधा रिस करति, निरखि मुख तिहिं छवि पर ललचाव ॥1॥


नैन चपलता कहाँ गँवाई ।
मोसौं कहा दुरावत नागर, नागरि रैनि जगाई ॥
ताहौ कैं रँग अरुन भए है, धनि यह सुंदरताई ।
मनौ अरुन असमबुज पर बैठै , मत्त भृंग रस पाई ॥
उड़ि न सकत ऐसे मतवारे. लागत पलक जम्हाई ।
सुनहु सूर यह अंग माधुरी, आलस भरे कन्हाई ॥2॥


यह कहि कै तिय धाम गई ।
रिसनि भरी नख-सिख लौं प्यारी, जोबन-गर्ब-मई ॥
सखी चलीं गृह देखि दसा यह, हठ करि बैठी जाइ ।
बोलति नहीं मान करि हरि सौं, हरि अंतर रहे आइ ।
इहिं अंतर जुवतो सब आईं जहाँ स्याम घर-द्वारैं ।
प्रिया मान करि बैठि रहि है, रिस करि क्रोध तुम्हारैं ॥
तुम आवत अतिहीं झहरानी, कहा करी चतुराई ।
सुनत सूर यह बात चकित पिय, अतिहिं गए मुरझाई ॥3॥


नैंकु निकुंज कृपा कर आइयै ॥
अति रिस कृस ह्वैं रही किसोरी, करि मनुहारी मनाइयै ॥
कर कपोल अंतर नहिं पावत, अति उसास तन ताइयै ।
छूटे चिहुर बदन कुम्हिलानौ, सुहथ सँवारि बनाइयै ।
इतनौ कहा गाँठि कौ लागत, जौ बातनि सुख पाइयै ।
रूठेहिं आदर देत सयाने, यहै सूर जस गाइयै ॥4॥


बैठी मानिनी गहि मौन ।
मनौ सिद्ध समाधि सेवत सुरनि साधे पौन ॥
अचल आसन, पलक तारी, गुफा घूँघट-भौन ।
रोषही कौ ध्यान धारै, टेक टारै कौन ॥
अबहिं जाइ मनाइ लीजै, अबसि कीजै गौन ।
सूर के प्रभु जाइ देखौ, चित्त चौंधी जौन ॥5॥


स्यामा तू अति स्यामहिं भावै ।
बैठत-उठत, चलत ,गौ चारत , तेरी लीला गावै ॥
पीत बरन लखि पीत बसन उर, पीत धातु अँग लावै ।
चंद्राननि सुनि, मोर चंद्रिका, माथैं मुकुट बनावै ॥
अति अनुराग सैन संभ्रम मिलि, संग परम सुख पावै ।
बिछुरत तोहिं क्वासि राधा कहि, कुंज-कुंज प्रति धावै ॥
तेरौ चित्र लिखै, अरु निरखै, बासर-बिरह नसावै ।
सूरदास रस-रासि-रसिक सौं, अंतर क्यौं करि आवै ॥6॥


राधे हरि तेरौ नाम बिचारैं ।
तुम्हरेइ गुन ग्रंथित करि माला, रसनाकर सौं टारै ।
लोचन मूँदि ध्यान धरि, दृढ़ करि, पलक न नैंक उघारैं ॥
अंग अंग प्रति रूप माधुरी, उत तैं नहीं बिसारैं ॥
ऐसौ नेम तुम्हारी पिय कैं, कह जिय निठुर तिहारैं ।
सूर स्याम मनकाम पुरावहु, उठि चलि कहैं हमारैं ॥7॥


कहा तुम इतनैंहि कौं गरबानी ॥
जीवन रूप दिवस दसही कौ, जल अँचुरी कौ जानी ।
तृन की अगिनि ,धूप की मंदिर, ज्यौं तुषार-कन-पानी ।
रिसहीं जरति पतंग ज्योति ज्यौं, जानति लाभ न हानी ॥
कर कछु ज्ञानऽभिमान जान दै, हैऽब कौन मति ठानी ।
तन धन जानि जाम जुग छाया, भूलति कहा अयानी ॥
नवसै नदी चलति मरजादा, सूधियै सिंधु समानी ।
सूर इतर ऊसर के बरषैं, थौरैं हि जल इतरानी ॥8॥


रहित री मानिनी कान न कीजै ।
यह जोबन अँजुरी कौ जल है, ज्यौं गुपाल माँगै त्यौं दीजै ॥
छिनुछीनु घटति, बढ़ति नहिं रजनी, ज्यौं ज्यौं कलाचंद्र की छीजै ।
पूरब पुन्य सुकृत फल तेरौ, काहैं न रूप नैन भरि पीजै ॥
सौंह करति तेरे पाइनि की, ऐसी जियनीदसौ नित जीजै ।
सूर सु जीवन सफल जगत कौ,बेरी बाँधि बिबस करि लीजै ॥9॥


राधा सखी देखी हरषानी ।
आतुर स्याम पठाई याकौं, अंतरगत की जानी ॥
वह सोभा निरखत अँग-अँग की,रही निहारि निहारि ।
चकितदेखि नागरि मुख वाकौ, तुरत सिगारनि सारि ।
ताहि कह्यौ सुख दै चलि हरि कौं, मैं आवति हौं पाछैं ॥10॥


हरषि स्याम तिय बाँह गही ।
अपनैं कर सारी अँग साजत , यह इक साध गही ॥
सकुचित नारि बदन मुसुकानि, उतकौं चितै रही ।
कोक-कला परिपूरन दोऊ, त्रिभुवन और नहीं ॥
कुंज-भवन सँग मिलि दोउ बैठै, सोभा एक चही ।
सूर स्याम स्यामा सिर बेनी, अपनैं करनि गुही ॥11॥


अतिसय चारू विमल, चंचल ये,पल पिंजरा न समाते ।
बसे कहूँ सोइ बातसखी, कहि रहे इहाँ किहिं नातै ?
सोइ संज्ञा दैखति औरासी, विकल उदास कला तैं ॥
चलि चलि जात निकट स्रवनि के, सकि नाटंक फँदाते ।
सूरदास अंजन गुन अटके, नतरु कबै उड़ि जाते ॥12॥


धन्य धन्य वृषभानु -कुमारी, गिरिवरधर बस कीन्हे (री) ।
जोइ जोइ साथ करी पिय की, सो सब उनकौं दीन्हे (री) ॥
तोसी तिया और त्रिभुवन मैं, पुरुष स्याम से नाहीं (री ) ।
कोक-कला पूरन तुम दोऊ, अब न कहूँ हरि जाहीं ।(री) ॥
ऐसे बस तुम भए परस्पर , मौसौं प्रेम दुरावै (री) ।
सूर सखी आनंद न सम्हारति, नागरि कंठ लगावै (री) ॥13॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki