Fandom

Hindi Literature

मन चाहे यह / अनिल जनविजय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

नहीं

दिल नहीं करता अब

यहाँ विदेश में रहने का


मन चाहे यह

मैं अपने भूखे-नंगे

जन-गण के पास जाऊँ


कष्ट में है जो पीड़ा में

है दुश्मन के फेरे में

साम्प्रदायिकता के घेरे में

तकलीफ़देह, घुटन भरे हैं दिन

उन्होंने डुबो दिया मेरे जन-गण को

मन्दिर-मस्ज़िद के अँधेरे में


काल है यह बदतर अन्यायी

उजाले पर

फिरी हुई है स्याही

निराशा भरे इस विकट समय में

साथ उसका निभाऊँ

मैं अपने जन-गण के पास जाऊँ


(2004 में मास्को में रचित)

Also on Fandom

Random Wiki