Fandom

Hindi Literature

मन नहीं बदले अगर / कमलेश भट्ट 'कमल'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: कमलेश भट्ट 'कमल'

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

मन नहीं बदले अगर तो सिर्फ तन से क्या ?

आये दिन के कीर्तन से या भजन से क्या ?


जो उजाला या तपिश कुछ भी न दे जाए

वह जले या बुझ भी जाए, उस अगन से क्या ?


बन्दिशें ही बन्दिशें जब हों उड़ानों पर

पंछियों को फिर परों से या गगन से क्या ?


आपके घर में हवा है और ताज़ा है

आपको माहौल की गहरी घुटन से क्या ?


ज़हनियत का भी पता देते हैं खुद कपड़े

ज़हनियत मर जाए तो फिर तन-बदन से क्या ?


जब गरीबों का कहीं कोई न अपना हो

मुल्क की सारी व्यवस्था से सदन से क्या ?


जो अँधेरों की तरफदारी में शामिल हो

वह किरन भी हो अगर तो उस किरन से क्या ?

Also on Fandom

Random Wiki