Fandom

Hindi Literature

मन ही नदी है / सविता सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मन के पार
नहीं होती है कोई नाव
वह तो मन के भीतर ही होती है कहीं
कभी स्थिर
कभी हिचकोले खाती
जैसे कि वह पानी हो
न कि लकड़ी का कोई तख़्ता

मन के इस तरफ़ भी
नहीं होती कोई पृथ्वी
वह भी मन में ही होती है कहीं
चाँद-तारे उगाती
कभी बुझी-सी भी घुप्प अँधेरी

मन ही दरअसल नदी है
यदि नाव है कोई पानी
यही है वह अँधेरा
जिसमें है बुझी-सी पृथ्वी बैठी

Also on Fandom

Random Wiki