Fandom

Hindi Literature

महरि मुदित उलटाइ कै मुख चूमन लागी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

महरि मुदित उलटाइ कै मुख चूमन लागी ।
चिरजीवौ मेरौ लाड़िलौ, मैं भई सभागी ॥
एक पाख त्रय-मास कौ मेरौ भयौ कन्हाई ।
पटकि रान उलटो पर्‌यौ, मैं करौं बधाई ॥
नंद-घरनि आनँद भरी, बोलीं ब्रजनारी ।
यह सुख सुनि आई सबै, सूरज बलिहारी ॥

श्रीव्रजरानी (प्रभु को) उलटा करके (पीठ के बल सीधे लिटाकर) आनन्दित होकर उनके मुख का चुम्बन करने लगीं । (बोलीं) `मेरा प्यारा लाल चिरजीवी हो ! मैं आज भाग्यवती हो गयी। मेरा कन्हाई साढ़े तीन महीने का ही हुआ है, पर आज जानुओं को टेककर स्वयं उलटा हो गया । मैं आज इसका मंगल बधाई बँटवाऊँगी ।' आनन्द भरी श्रीव्रजरानी ने व्रज की गोपियों को बुलवाया । यह संवाद पाकर सब वहाँ आ गयीं । सूरदास इस छबि पर बलिहारी हैं।

Also on Fandom

Random Wiki