FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


मौहिं छुवौ जनि दूर रहौ जू ।

जाकौं हृदय लगाइ लयौ है, ताकी वाहँ गहौ जू ॥

तुम सर्वज्ञ और सब मूरख, सो रानी अरु दासी ।

मैं देखत हिरदय वह बैठी, हम तुमकौ भइँ हाँसी ॥

बाँह गहत कछु सरम न आवति, सुख पावति मन माहीं ।

सुनहु सूर मो तन यह इकटक,चितवति ,डरपति नाहीं ॥1॥


कहा भई घनि बावरी, कहि तुमहिं सुनाऊँ ॥

तुम तैं को है भावती, जिहिं हृदय बसाऊँ ॥

तुमहिं स्रवन, तुम नैन हौ, तुम प्रान-अधारा ।

वृथा क्रोध तिय क्यौं करौ, कहि बारंबारा ॥

भुज गहि ताहि बसावहू, जेहि हृदय बतावति ।

सूरज प्रभु कहैं नागरी, तुम तैं को भावति ॥2॥


पियहिं निरखि प्यारी हँसि दीन्हीं ।

रीझे स्याम अंग अँग निरखत, हँसि नागरि उर लीन्हौ ॥

आलिंगनदै अधर दसत खँडि, कर गहि चिबुक उठावत ।

नासा सौं नासा लै जोरत, नैन नैन परसावत ॥

इहिं अँतर प्यारी उर निरख्यौ, झझकि भई तब न्यारी ।

सूर स्याम मौकौं दिखरावत, उर ल्याए धरि प्यारी ॥3॥


मान करौ तुम और सवाई ।

कोटि कौ एकै पुनि ह्वै हौ, तुम अरु मोहन माई ॥

मोहन सो सुनि नाम स्रवनहीं, मगन भई सुकुमारी ।

मान गयौ, रिस गई तुरतहीं, लज्जित भई मन भारी ॥

धाइ मिलौ दूतिका कंठ सौ, धन्य-धन्य कहि बानी ।

सूर स्याम बन धाम जानिकै, दरसन कौं अतुरानी ॥4॥


चलौ किन मानिनि कुंज-कुटीर ।

तुब बिनु कुँवर कोटि बनिता तजि, सहत मदन की पीर ॥

गदगद स्वर संभ्रम अति आतुर, स्रवत सुलोचन नीर ।

ववासि क्वासि बृषभानु नंदिनी, बिलपत बिपिन अधीर ॥

बसी बिसिष, माल ब्यालावहि, पंचानन पिक कीर ।

मलयज गरल, हुतासन मारुत, साखामृगरिपु चीर ॥

हिय मैं हरषि प्रेम अति आतुर, चतुर चली पिय तीर ।

सुनि भयभीत बज्र के पिंजर ,सूर सुरति-रनधीर ॥5॥


श्याम नारि कैं बिरह भरे ।

कबहुँक बैठत कुँज द्रुमनि तर, कबहुँक रहत खरे ॥

कबहुँक तनु की सुरति बिसारत, कबहुँक तनु सुधि आवत ।

तब नागरि के गुनहि बिचारत, तेइ गुन गनि गावत ॥

कहुँ मुकुट, कहूँ मुरलि रही गिरि, कहूँ कटि पीत पिछौरी ।

सूर स्याम ऐसी गति भीतर, आइ दूतिका दौरी ॥6॥


धनि बृषभानु-सुता बड़ भागिनि ।

कहा निहारति अंग-अंग छबि, धण्य स्याम-अनुरागिनि ॥

और त्रिया नख शिख सिंगार सजि, तेरै सहज न पूरैं ।

रति, रंभा, उरबसी, रमा सी, तोहिं निरखि मन झूरै ॥

ये सब कंत सुहागिनि नाहीं, तू है कंत-पियारी ।

सूर धन्य तेरी सुंदरता, तोसी और न नारी ॥7॥


सँग राजित बृषभानु कुमारी ।

कुंज-सदन कुसुमनि सेज्या पर दंपति सोभा भारी ॥

आलम भरे मगन रस दोउ, अंग-अंग प्रति जोहत ।

मनहूँ गौर स्यामल ससि नव तन, बैठे सन्मुख सोहत ॥

कुंज भवन राधा-मनमोहन, चहूँ पास ब्रजनारी ।

सूर रहीं लोचन इकटक करि, डारतिं तन मन वारी ॥8॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki