Fandom

Hindi Literature

मुक्तिबोध के नाम / दिविक रमेश

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

सुनो मुक्तिबोध, सुनो!

देखा था जिनको तुमने

शामिल

अंधेरे की शोभा-यात्रा में

वे जो

तुम्हारे युग में

केवल अंधेरे में नंगा होने का साहस करते थे--

वे जिनको तुमने हठात

खिड़की खोल झाँक लिया था

और जो भाग पड़े थे...


तुम तो निकल गए, कहीं दूर

उनकी सज़ा हम पा रहे हैं।


सुनो

वे सब

वही सब/ फिर दोहरा रहे हैं ।

उन्हें अब अंधेरों की ज़रूरत नहीं ।


वे दौड़ते आ रहे हैं

दिन-दहाड़े

चौराहों पर ।


नहीं-नहीं

अब मुझे शक होता है

उस पर भी

जो लेखक बन

जेल में मर गया ।

Also on Fandom

Random Wiki