Fandom

Hindi Literature

मुक्ति के लिए कविता / चंद्र कुमार जैन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: चंद्र कुमार जैन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

शब्दों की अर्थवत्ता को तोड़ने
और
व्यर्थ अर्थों की सत्ता को छोड़ने के बाद
जो रची जाएगी
वही होगी जागरण की कविता !
करेगी संघर्श वह
दिन - प्रतिदिन सीमित होते सुखों के खिलाफ
टूटेगी नहीं वह
जीवित रखेगी अपनी आँखों में
सुख और सौंदर्य के सपनों को
मांजेगी अपने दु:खों से
अपना तन !
निखारेगी अपनी वेदनाओं से
अपना मन ! > मुक्त होगी, मुक्त रखेगी सबको
करेगी अपनी ही दुनिया से मुलाकात
वह कविता !

Also on Fandom

Random Wiki