Fandom

Hindi Literature

मुख-छबि कहा कहौं बनाइ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मुख-छबि कहा कहौं बनाइ ।
निरखि निसि-पति बदन-सोभा, गयौ गगन दुराइ ॥
अमृत अलि मनु पिवन आए, आइ रहे लुभाइ ।
निकसि सर तैं मीन मानौ,, लरत कीर छुराइ ॥
कनक-कुंडल स्रवन बिभ्रम कुमुद निसि सकुचाइ।
सूर हरि की निरखि सोभा कोटि काम लजाइ ॥

भावार्थ :-- इस मुख की शोभा का क्या बनाकर (उपमा देकर) वर्णन करूँ । इसकी छटा को देखकर चन्द्रमा (लज्जा से) आकाश में छिप गया है । (अलकें ऐसी लगती हैं मानो) भौरों का झुंड अमृत पीने आया था और आकर लुब्ध हो रहा है । (नेत्रों के मध्य में नासिका ऐसी है मानो) सरोवर से निकलकर दो मछलियाँ लड़ रही थीं, एक तोता उन्हें अलग करने बीच में आ बैठा है । कानों में सोने के कुण्डलों की शोभा को देखकर रात्रि में फूलने वाले कुमुद के पुष्प भी संकुचित होते हैं । सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर की शोभा देखकर करोड़ों कामदेव लज्जित हो रहे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki