Fandom

Hindi Literature

मुझे उनसे मिलना है / चंद्र कुमार जैन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: चंद्र कुमार जैन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

मूझे उनसे मिलना है
जो कम से कम यह जानते हैं
कि वे कुछ नहीं जानते !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो अपनी जानकारी को ही
विज्ञान समझते हैं !

और मुझे मिलना है उनसे
जो अपना घर जलाकर
औरों की दुनिया रौशन करते हैं !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो दूसरों के अंधेरे में
अपनी रोशनी आबाद करते हैं !

मुझे उनसे मिलना है
जो अपने घरों का कचरा
औरों पर नहीं फेंकते !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो दूसरों का आंचल देख
खुद को बेदाग समझते हैं !

मुझे उनसे मिलना है
जो दूसरों की आग पर
अपनी रोटी नहीं सेंकते !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो अपने चूल्हे के धुऍ से
दूसरों की दृष्टि छीनते हैं !

मुझे उनसे मिलना है
जो कुछ कहना
और कुछ करना भी जानते हैं !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो बिना चले
बस सिर हिलाते हैं !

मुझे उनसे मिलना है
जो अपने होने पर
वि वास रखते हैं !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो केवल कुछ बनने का
ख्वाब रखते हैं !

...और मुझे उनसे मिलना है
जो जीने के खातिर
सांसों का साथ देते हैं !
मुझे उनसे मत मिलाना
जो सिर्फ सांसों को
जीना समझ लेते हैं !

Also on Fandom

Random Wiki