Fandom

Hindi Literature

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किये हुए / ग़ालिब

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मुद्दत हुई है यार को महमाँ किये हुए
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किये हुए

करता हूँ जमा फिर जिगर-ए-लख़्त-लख़्त को
अर्सा हुआ है दावत-ए-मिज़्श्गाँ किये हुए

फिर वज़ा-ए-एहतियात से रुकने लगा है दम
बरसों हुए हैं चाक गिरेबाँ किये हुए

फिर गर्मनाला हाये शररबार है नफ़स
मुद्दत हुई है सैर-ए-चराग़ाँ किये हुए

फिर पुर्सिश-ए-जराहत-ए-दिल को चला है इश्क़
सामाँ-ए-सदहज़ार नमकदाँ किये हुए

फिर भर रहा हूँ ख़ामा-ए-मिज़्श्गाँ बाख़ून-ए-दिल
साज़-ए-चमनतराज़ी-ए-दामाँ किये हुए

बाहमदिगर हुए हैं दिल-ओ-दीदा फिर रक़ीब
नज़्ज़ारा-ओ-ख़याल का सामाँ किये हुए

दिल फिर तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत को जाये है
पिंदार का सनमकदा वीराँ किये हुए

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किये हुए

दौड़े है फिर हर एक गुल-ओ-लाला पर ख़याल
सदगुलसिताँ निगाह का सामाँ किये हुए

फिर चाहता हूँ नामा-ए-दिलदार खोलना
जाँ नज़र-ए-दिलफ़रेबी-ए-उन्वाँ किये हुए

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किये हुए

चाहे फिर किसी को मुक़ाबिल में आरज़ू
सुर्मे से तेज़ दश्ना-ए-मिज़्श्गाँ किये हुए

इक नौबहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह
चेहर फ़ुरोग़-ए-मै से गुलिस्ताँ किये हुए

फिर जी में है कि दर पे किसी के पड़े रहें
सर ज़ेर बार-ए-मिन्नत-ए-दर्बाँ किये हुए

जी ढूँढता है फिर वही फ़ुर्सत के रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किये हुए

"ग़ालिब" हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से
बैठे हैं हम तहय्या-ए-तूफ़ाँ किये हुए

Also on Fandom

Random Wiki