Fandom

Hindi Literature

मुबारक हो नया साल / नागार्जुन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































रचनाकार: नागार्जुन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


फलाँ-फलाँ इलाके में पड़ा है अकाल

खुसुर-पुसुर करते हैं, ख़ुश हैं बनिया-बकाल

छ्लकती ही रहेगी हमदर्दी साँझ-सकाल

--अनाज रहेगा खत्तियों में बन्द !


हड्डियों के ढेर पर है सफ़ेद ऊन की शाल...

अब के भी बैलों की ही गलेगी दाल !

पाटिल-रेड्डी-घोष बजाएँगे गाल...

--थामेंगे डालरी कमंद !


बत्तख हों, बगले हों, मेंढक हों, मराल

पूछिए चलकर वोटरों से मिजाज का हाल

मिला टिकट ? आपको मुबारक हो नया साल

--अब तो बाँटिए मित्रों में कलाकंद !


(1967 में रचित)

Also on Fandom

Random Wiki