Fandom

Hindi Literature

मूँद लो आँखें / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मूँद लो आँखें

शाम के मानिंद ।

ज़िन्दगी की चार तरफ़ें

मिट गई हैं ।

बंद कर दो साज़ के पर्दे ।

चाँद क्यों निकला, उभरकर...?

घरों में चूल्हे

पड़े हैं ठंडे ।

क्यों उठा यह शोर ?

किसलिए यह शोर ?


छोड़ दो संपूर्ण--प्रेम,

त्याग दो सब दया--सब घृणा ।

ख़त्म हमदर्दी ।

ख़त्म --

साथियों का साथ ।


रात आएगी

मूँदने सबको ।


(१९४५ में लिखित)

Also on Fandom

Random Wiki