Fandom

Hindi Literature

मैं न यह पथ जानती री / महादेवी वर्मा

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

काव्य संग्रह दीपशिखा से

मैं न यह पथ जानती री!
धर्म हों विद्युत् शिखायें,
अश्रु भले बे आज अग-जग वेदना की घन-घटायें!
सिहरता मेरा न लघु उर,
काँपते पग भी न मृदुतर,
सुरभिमय पथ में सलोने स्वजन को पहचानती री!

ज्वाल के हों सिन्धु तरलित,
तुहिन-विजडित मेरु शत-शत,
पार कर लूँगी वही पग-चाप यदि कर दें निमंत्रित
नाप लेगा नभ विहग-मन
बाँध लेगा प्रलय मृदु तन,
किसलिये ये फूल-सोदर शूल आज बखानती री?

Also on Fandom

Random Wiki