Fandom

Hindi Literature

मैं बलि स्याम, मनोहर नैन / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग सारंग


मैं बलि स्याम, मनोहर नैन ।
जब चितवत मो तन करि अँखियन, मधुप देत मनु सैन ॥
कुंचित, अलक, तिलक गोरोचन, ससि पर हरि के ऐन ।
कबहुँक खेलत जात घुटुरुवनि, उपजावत सुख चैन ॥
कबहुँक रोवत-हँसत बलि गई, बोलत मधुरे बैन ।
कबहुँक ठाढ़े होत टेकि कर, चलि न सकत इक गैन ॥
देखत बदन करौं न्यौछावरि, तात-मात सुख-दैन ।
सूर बाल-लीला के ऊपर, बारौं कोटिक मैन ॥

भावार्थ :-- (माता कहती है-) श्याम के मनोहारी नेत्रों की मैं बलिहारी जाती हूँ । जब मेरी ओर आँखें कर के वह मेरे मुख की ओर देखता है तो लगता है मानो भौंरे ही कोई संकेत कर रहे हैं । हरि के चन्द्रमुख पर घुँघराली अलकें छायी हैं और (भाल पर) गोरोचन का तिलक लगा है । कभी घुटनों चलते हुए खेलता है और सुख-चैन उत्पन्न करता है, कभी रोता है, कभी हँसता है, मैं तो उसकी मधुर बाणीपर बलि जाती हूँ । कभी हाथ टेककर खड़ा ही जाता है, किंतु अभी एक पद भी नहीं चल सकता । उसका मुख देखकर मैं अपने आपको न्यौछावर करती हूँ, वह माता-पिता को सुख देनेवाला है । सूरदास जी कहते हैं - इस बाललीला के ऊपर करोड़ों कामदेवों को न्यौछावर करता हूँ ।

Also on Fandom

Random Wiki