Fandom

Hindi Literature

मैया री मोहि दाऊ टेरत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मैया री मोहि दाऊ टेरत ।
मोकौं बन-फल तोरि देत हैं, आपुन गैयनि घेरत ॥
और ग्वाल सँग कबहुँ न जैहौं, वै सब मोहि खिझावत ।
मैं अपने दाऊ सँग जैहौं, बन देखैं सुख पावत ।
आगें दै पुनि ल्यावत घर कौं, तू मोहि जान न देति ।
सूर स्याम जसुमति मैया सौं हा-हा करि कहै केति ॥


भावार्थ :-- (श्यामसुन्दर कहते हैं-) ` अरी मैया! मुझे दाऊ दादा पुकार रहे । मुझे वे वन के फल तोड़-तोड़ कर दिया करते हैं और स्वयं गायें हाँकते-घेरते हैं । मैं दूसरे गोपकुमारों के साथ कभी नहीं जाऊँगा, वे सब मुझे चिढ़ाते हैं । मैं अपने दाऊ दादा के साथ जाऊँगा, वन देखने से मुझे आनन्द मिलता है । फिर वे मुझे आगे करके ले आते हैं । परंतु तू जो मुझे जाने नहीं देती ।' सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर मैया यशोदा से कितनी ही अनुनय करके कह रहे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki