Fandom

Hindi Literature

मोती कभी पलकों से गिराए नहीं हमने... / देवी नांगरानी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

सपने कभी आंखों मे बसाए नहीं हमने

बेकार के ये नाज़ उठाए नहीं हमने|


दौलत को तेरे दर्द की रक्खा सहेज कर

मोती कभी पलकों से गिराए नहीं हमने|


आई जो तेरी याद तो लिखने लगी गज़ल

रो रो के गीत औरों को सुनाए नहीं हमने|


है सूखा पड़ा आज तो, कल आयेगा सैलाब

ख़ेमे किसी भी जगह लगाए नहीं हमने|


इतने फ़रेब खाए हैं ‘देवी’ बहार में

जूड़े में गुलाब अब के लगाये नहीं हमने||

Also on Fandom

Random Wiki