Fandom

Hindi Literature

यदि मैं कहूं / शैलेन्द्र

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


यदि मैं कहूं कि तुम बिन मानिनि

व्यर्थ ज़िन्दगी होगी मेरी,

नहीं हंसेगा चांद हमेशा

बनी रहेगी घनी अंधेरी--

बोलो, तुम विश्वास करोगी ?


यदि मैं कहूं कि हे मायाविनि

तुमने तन में प्राण भरा है,

और तुम्हीं ने क्रूर मरण के

कुटिल करों से मुझे हरा है--

बोलो, तुम विश्वास करोगी  ?


यदि मैं कहूं कि तुम बिन स्वामिनि,

टूटेगा मन का इकतारा,

बिखर जाएंगे स्वप्न

सूख जाएगी मधु-गीतों की धारा--

बोलो, तुम विश्वास करोगी  ?


1946 में रचित

Also on Fandom

Random Wiki