Fandom

Hindi Literature

यह दिया बुझे नहीं / गोपाल सिंह नेपाली

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

घोर अंधकार हो¸

चल रही बयार हो¸

आज द्वार–द्वार पर यह दिया बुझे नहीं

यह निशीथ का दिया ला रहा विहान है।

शक्ति का दिया हुआ¸

शक्ति को दिया हुआ¸

भक्ति से दिया हुआ¸

यह स्वतंत्रता–दिया¸

रूक रही न नाव हो

जोर का बहाव हो¸

आज गंग–धार पर यह दिया बुझे नहीं¸

यह स्वदेश का दिया प्राण के समान है।


यह अतीत कल्पना¸

यह विनीत प्रार्थना¸

यह पुनीत भावना¸

यह अनंत साधना¸

शांति हो¸ अशांति हो¸

युद्ध¸ संधि¸ क्रांति हो¸

तीर पर¸ कछार पर¸ यह दिया बुझे नहीं¸

देश पर¸ समाज पर¸ ज्योति का वितान है।


तीन–चार फूल है¸

आस–पास धूल है¸

बांस है –बबूल है¸

घास के दुकूल है¸

वायु भी हिलोर दे¸

फूंक दे¸ चकोर दे¸

कब्र पर मजार पर¸ यह दिया बुझे नहीं¸

यह किसी शहीद का पुण्य–प्राण दान है।


झूम–झूम बदलियाँ

चूम–चूम बिजलियाँ

आंधिया उठा रहीं

हलचलें मचा रहीं

लड़ रहा स्वदेश हो¸

यातना विशेष हो¸

क्षुद्र जीत–हार पर¸ यह दिया बुझे नहीं¸

यह स्वतंत्र भावना का स्वतंत्र गान है।

Also on Fandom

Random Wiki