Fandom

Hindi Literature

यादें / लावण्या शाह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

घर से जितनी दूरी तन की,
उतना समीप रहा मेरा मन,
धूप ~ छाँव का खेल जिँदगी
क्या वसँत , क्या सावन!
नेत्र मूँद कर कभी दिख जाते,
वही मिट्टी के घर आँगन,
वही पिता की पुण्य ~ छवि,
सजल नयन पढ्ते रामायण !
अम्मा के लिपटे हाथ आटे से,
फिर सोँधी रोटी की खुशबु,
बहनोँ का वह निश्छल हँसना
साथ साथ, रातोँ को जगना !
वे शैशव के दिन थे न्यारे,
आसमान पर कितने तारे!
कितनी परियाँ रोज उतरतीँ,
मेरे सपनोँ मेँ आ आ कर मिलतीँ.
" क्या भूलूँ, क्या याद करूँ ? "
मेरे घर को या अपने बचपन को ?
कितनी दूर घर का अब रस्ता,
कौन वहाँ मेरा अब रस्ता तकता ?
अपने अनुभव की इस पुड़िया को,
रक्खा है सहेज, सुन ओ मेरी ,गुड़िया !

Also on Fandom

Random Wiki