Fandom

Hindi Literature

ये आलम शौक़ का देखा न जाये / फ़राज़

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

ये आलम शौक़ का देखा न जाये
वो बुत है या ख़ुदा देखा न जाये

ये किन नज़रों से तुम ने आज देखा
के तेरा देखना देख ना जाये

हमेशा के लिये मुझ से बिछड़ जा
ये मंज़र बारहा देखा न जाये

ग़लत है जो सुना पर आज़मा कर
तुझे ऐ बावफ़ा देखा न जाये

ये महरूमी नहीं पास-ए-वफ़ा है
कोई तेरे सिवा देखा न जाये

यही तो आश्ना बनते हैं आख़िर
कोई नाआश्ना देखा न जाये

"फ़राज़" अपने सिवा है कौन तेरा
तुझे तुझ से जुदा देखा न जाये

Also on Fandom

Random Wiki