Fandom

Hindi Literature

यौवन की स्मृति (दो) / अनिल जनविजय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


तुम कविता में इतना क्यों इतराती हो

क्या बात है जो मुझे नहीं बतलाती हो


शब्द-शब्द से नश्तर-तीर चुभोती हो

हाव-भाव से पीर हृदय में बोती हो


हाँ, मैं दोषी हूँ, समक्ष तुम्हारे, ससि रानी

छोड़ तुम्हें परदेस गया मैं, ओ मसि रानी


पर, इस बीच जीवन ने हमें कितना बदला

पीट-पीट कर बना दिया उसने हमें तबला


क्या चाहो तुम मुझ से अब, मैं क्या जानूँ

बात कहो गर बिल्कुल सीधी तो पहचानूँ


(रचनाकाल: 2002)

Also on Fandom

Random Wiki