FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER

मुखपृष्ठ: पद्मावत / मलिक मोहम्मद जायसी

सुना साह अरदासै पढीं । चिंता आन आनि चित चढी ॥
तौ अगमन मन चीतै कोई । जौ आपन चीता किछु होई ॥
मन झूठा, जिउ हाथ पराए । चिंता एक हिये दुइ ठाएँ ॥
गढ सौं अरुझि जाइ तब छूटै । होइ मेराव, कि सो गढ टूटै ॥
पाहन कर रिपु पाहन हीरा । बेधौं रतन पान देइ बीरा ॥
सुरजा सेंति कहा यह भेऊ । पलटि जाहु अब मान हु सेऊ ॥
कहु तोहि सौं पदमिनि नहिं लेऊँ । चूरा कीन्ह छाँडि गढ देऊँ ॥

आपन देस खाहु सब औ चंदेरी लेहु ।
समुद जो समदन कीन्ह तोहि ते पाँचौ नग देहु ॥1॥

सुरजा पलटि सिंघ चढि गाजा । अज्ञा जाइ कही जहँ राजा ॥
अबहूँ हिये समुझु रे, राजा । बादसाह सौ जूझ न छाजा ॥
जेहि कै देहरी पृथिवी सेई । चहै तौ मारै औ जिउ लेई ॥
पिंजर माहँ ओहि कीन्ह परेवा । गढपति सोइ बाँच कै सेवा ॥
जौ लगि जीभ अहै मुख तोरे । सँवरि उघेलु बिनय कर जोरे ॥
पुनि जौ जीभ पकरि जिउ लेई । को खोले, को बोले देई ?॥
आगे जस हमीर मैमंता । जौ तस करसि तोरे भा अंता ॥

देखु ! काल्हि गड टूटै, राज ओहि कर होइ ।
करु सेवा सिर नाइ कै, घर न घालु बुधि खोइ ॥2॥

सरजा ! जौ हमीर अस ताका । और निवाहि बाँधि गा साका ॥
हौं सक- बंधी ओहि अस नाहीं । हौं सो भोज विक्रम उपराहीं ॥
बरिस साठ लगि साँठि न काँगा । पानि पहार चुवै बिनु माँगा ॥
तेहि ऊपर जौ पै गढ टूटा । सत सकबंधी केर न छूटा ॥
सोरह लाख कुँवर हैं मोरे । परहिं पतँग जस दीप- अँजोरे ॥
जेहि दिन चाँचरि चाहौं जोरी । समदौं फागु लाइ कै होरी ॥
जौ निसि बीच, डरै नहिं कोई । देखु तौ काल्हि काह दहुँ होई ॥

अबहिं जौहर साजि कै कीन्ह चहौं उजियार ।
होरी खेलौं रन कठिन, कोइ समेटै छार ॥3॥

अनु राजा सो जरै निआना । बादसाह कै सेव न माना ॥
बहुतन्ह अस गढ कीन्ह सजवना । अंत भई लंका जस रवना ॥
जेहि दिन वह छेंकै गढ घाटी । होइ अन्न ओही दिन माटी ॥
तू जानसि जल चुवै पहारू । सो रोवै मन सँवरि सँघारू ॥
सूतहि सूत सँवरि गढ रोवा । कस होइहि जौ होइहि ढोवा ॥
सँवरि पहार सो ढारै आँसू । पै तोहि सूझ न आपन नासू ॥
आजु काल्हि चाहै गढ टूटा । अबहुँ मानु जौ चाहसि छूटा ॥

हैं जो पाँच नग तो पहँ लेइ पाँचो कहँ भेंट ॥
मकु सो एक गुन मानै, सब ऐगुन धरि मेट ॥4॥

वह तुम्हारे इस एक ही गुण से सब अवगुणों को भूल जाय ।
अनु सरजा को मेटै पारा । बादसाह बड अहै तुम्हारा ॥
ऐगुन मेटि सकै पुनि सोई । औ जो कीन्ह चहै सो होई ॥
नग पाँचौ देइ देउँ भँडारा । इसकंदर सौं बाँचै दारा ॥
जौ यह बचन त माथे मोरे । सेवा करौं ठाढ कर जोरे ॥
पै बिनु सपथ न अस मन माना । सपथ बोल बाचा-परवानाँ ॥
खंभ जो गरुअ लीन्ह जग भारू । तेहि क बोल नहिं टरै पहारू ॥
नाव जो माँझ भार हुँत गीवा । सरजै कहा मंद वह जीवा ॥

सरजै सपथ कीन्ह छल बैनहि मीठै मीठ ।
राजा कर मन माना , माना तुरत बसीठ ॥5॥

हंस कनक पींजर-हुँत आना । औ अमृत नग परस-पखाना ॥
औ सोनहार सोन के डाँडी । सारदूल रूपे के काँडी ॥
सो बसीठ सरजा लेइ आवा । बादसाह कहँ आनि मेरावा ॥
ए जगसूर भूमि-उजियारे । बिनती करहिं काग मसि-कारे ॥
बड परताप तोर जग तपा । नवौ खंड तोहि को नहिं छपा ?॥
कोह छोह दूनौ तोहि पाहाँ । मारसि धूप, जियावसि छाहाँ ॥
जो मन सूर चाँद सौं रूसा । गहन गरासा, परा मँजूसा ॥

भोर होइ जौ लागै उठहिं रोर कै काग ।
मसि छूटै सब रैनि कै, कागहि केर अभाग ॥6॥

करि बिनती अज्ञा अस पाई । "कागहु कै मसि आपुहि लाई ॥
पहिलेहि धनुष नवै जब लागै । काग न टिकै, देखि सर भागै ॥
अबहूँ ते सर सौंहैं होहीं । देखैं धनुक चलहिं फिरि त्योंहीं ॥
तिन्ह कागन्ह कै कौन बसीठी । जो मुख फेरि चलहिं देइ पीठी ॥
जो सर सौंह होहिं संग्रामा । कित बग होहिं सेत वै सामा ?॥
करै न आपन ऊजर केसा । फिरि फिरि कहै परार सँदेसा ॥
काग नाग ए दूनौ बाँके । अपने चलत साम वै आँके ॥

"कैसेहु जाइ न मेटा भएउ साम तिन्ह अंग ।
सहस बार जौ धोवा तबहुँ न गा वह रंग ॥7॥

"अब सेवा जो आइ जोहारे । अबहूँ देखु सेत की कारे ॥
कहौं जाइ जौ साँच, न डरना । जहवाँ सरन नाहिं तहँ मरना ॥
काल्हि आव गढ ऊपर भानू । जो रे धनुक, सौंह होइ बानू"
पान बसीठ मया करि पावा । लीन्ह पान, राजा पहँ आवा ॥
जस हम भेंट कीन्ह गा कोहू । सेवा माँझ प्रीति औ छोहू ॥
काल्हि साह गढ देखै आव । सेवा करहु जेस मन भावा ॥
गुन सौं चलै जो बोहित बोझा । जहँवाँ धनुक बान तहँ सोझा ॥

भा आयसु अस राजघर, बेगि दै करहु रसोइ ।
ऐस सुरस रस मेरवहु जेहि सौं प्रीति-रस होइ ॥8॥


(1) चीते = सोचे, विचारे । चिंता एक...ठाएँ = एकहृदय में दौ ओर की चिंता लगी । गढ सौं...टूटै = बादशाह सोचता है कि गढ लेने में जब उलझ गए हैं तब उससे तभी छूट सकते हैं जब या तो मेल हो जाय या गढ टूटे । पाहन कर रिपु ....हीरा = हीरे पत्थर का शत्रु हीरा पत्थर ही होता है अर्थात् हीरा हीरे से ही कटता है । पान देइ बीरा = ऊपर से मेल करके । मानहु सेऊ = आज्ञा मानो । चूरा कीन्ह = एक प्रकार से तोडा हुआ गढ । खाहु = भोग करो । समदन कीन्ह = बिदा के समय भेंट में दिए थे ।

(2) उघेलु = निकाल। हमीर = रनथंभौर का राजा, हमीरदेव जो अलाउद्दीन से लडकर मारा गया था । तस = वैसा । घर न घालु = अपना घर न बिगाड ।

(3) ताका = ऐसा बिचारा ॥ साँठि = सामान । काँगा कम होगा । समदौं = बिदा के समय का मिलना मिलूँ । जो निसि बीच....दहुँ होई = (सरजा ने जो कहा था कि `देखु काल्हि गढ टूटै ' इसके उत्तर में राजा कहता है कि) एक रात बीच में पडती है (अभी रात भर का समय है) तो कोई डर की बात नहीं; देख तो कल क्या होता है?

(4) अनु = फिर । सजवना = तैयारी । रवना = रावण । अन्न माटी होइ = खाना पीना हराम हो जायगा । सँघारू = संहार, नाश । ढोवा = लूट । मकु सो एक गुन....मेट = शायद

(5) को भेट पारा = इस बात को कौन मिटा सकता है कि । भँडारा = भंडार से । जो यह बचन = जो बादशाह का इतना ही कहना है तो मेरे सिर मत्थे पर से । बाचा-परवाँना = बचन का प्रमाण है । नाव जो माँझ...गीवा = जो किसी बात का बोझ अपने ऊपर लेकर बीच में गरदन हटाता है । छल = छल से । बसीठ माना = सुलह का सँदेस मान लिया ।

(6) सोनहार= समुद्र का पक्षी । काँडी = पिंजरा ? बिनती करहिं काग मसि कारे = हे सूर्य ! कौए बिनती करते हैं कि उनकी कालिमा ( दोष, अवगुण) दूर कर दे अर्थात् राजा के दोष क्षमा कर । कोह = क्रोध । छोह = दया, अनुग्रह । धूप = धूप से । छाहाँ = छाँह में, अपनी छाया में । परा मँजूसा = झाबे में पड गया अर्थात् घिर गया । कागहि केर अभाग = कौए का ही अभाग्य है कि उसकी कालिमा न छूटी ।

(7) कागहु कै मसि...लाई = कौवै की स्याही तुम्हीं ने लगा ली है (छल करके) वे कौए नहीं हैं। पहिलेहि...भागै = जो कौवा होता है वह ज्योंही धनुष खींचा जाता है भाग जाता है । अबहूँ..होहों = वे तो अब भी यदि उनके सामने बाण किया जाय तो तुरंत लडने के लिये फिर पडेंगे । धनुक = युद्ध के लिये चढी कमान, टेढापन, कुटिलता । सर = शर तीर, ताल, सरोवर । जो सर....सामा = जो लडाई में तीर के सामने आते हैं वे श्वेत बगले काले कैसे हो सकते हैं ? करै न आपन....सँदेसा = तू अपने को शुद्ध और उज्ज्वल नहीं करता, केवल कौवों की तरह इधर का उधर सँदेसा कहता है (कवि लोग नायिकाओं का कौए से सँदेशा कहना वर्णन करते हैं)। अपने चलत...आँके = वे एक बात पर दृढ रहते हैं और सदा वही कालिमा ही प्रकट करते हैं पर तू अपने को और का और प्रकट करके छल करता है ।

(8) अब सेवा...जोहारे = उन्होंने मेल कर लिया है, तू अब भी देख सकता है कि श्वेत हैं या काले अर्थात् वे छल नहीं करेंगे । जो रे धनुक ..बानू = जो अब वह किले में मेरे जाने पर किसी प्रकार की कुटिलता करेगा तो उसके सामने फिर बाण होगा ( धनुष टेढा होता है और बाण सीधा ) । गुन = गून, रस्सी । जहँवा धनुक ....सोझा = जहाँ कुटिलता हुई कि सामने सीधा बाण तैयार है ।

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki