Fandom

Hindi Literature

राधा का अनुराग / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


पुनि पुनि कहति हैं ब्रज नारि ।

धन्य बड़ भागिनी राधा, तेरैं बस गिरिधारि ॥

धन्य नंद-कुमार धनि तुम, धन्य तेरी प्रीति ।

धन्य दोउ तुम नवल जोरी, कोक कलानि जीति ॥

हम विमुख, तुम कृष्न-संगिनि, प्रान इक, द्वै देह ।

एक मन, इक बुद्धि, इक चित, दुहुँनि एक सनेह ॥

एक छिनु बिनु तुमहिं देखै, स्याम धरत न धीर ।

मुरलि मैं तुव नाम पुनि, पुनि कहत हैं बलबीर ।

स्याम मनि तैं परखि लीन्हौ, महा चतुर सुजान ।

सूर के प्रभु प्रेमहीं बस, कौन तो सरि आन ॥1॥


राधा परम निर्मल नारि ।

कहति हौं मन कर्मना करि, हृदय-दुविधा टारि ॥

स्याम कौं इक तुहीं जान्यौ, दुराचारिनि और ।

जैसें घटपूरन न डोलै, अघ भरौ डगडौर ॥

धनी धन कबहूँ न प्रगटै, धरै ताहि छपाइ ।

तैं महानग स्याम पायौ, प्रगटि कैसें जाइ ॥

कहति हौं यह बात तोसौं, प्रगट करिहौ नाहिं ।

सूर सखी सुजान राधा, परसपर मुसुकाहिं ॥2॥


तैं ही स्याम भले पहिचाने ।

साँची प्रीति जानि मनमोहत, तेरेहिं हाथ बिकाने ॥

हम अपराध कियौ कहि तुमसौं, हमहीं कुलटा नारि ।

तुमसौं उनसौं बीच नहीं कछु, तुम दोऊ बर-नारि ॥

धन्य सुहाग भाग है तेरौ, धनि बड़भागी स्याम ।

सूरदास-प्रभु से पति जाकैं, तोसी जाकैं बाम ॥3॥


राधा स्याम की प्यारी ।

कृष्न पति सर्वदा तेरे, तू सदा नारी ॥

सुनत बनी सखी-मुख की, जिय भयौ अनुराग ।

प्रेम-गदगद, रोम पुलकित,समुझि अपनौ भाग ॥

प्रीति परगट कियौ चाहै, बचन बोलि न जाइ ।

नंद-नंदन काम-नायक रहे, नैननि छाइ ॥

हृदय तैं कहुँ टरत नाहीं, कियौ निहचल बास ।

सूर प्रभु-रस भरी राधा, दुरत नहीं प्रकास ॥4॥


जौ बिधना अपबस करि पाऊँ ।

तो सखि कह्यौ होइ कछु तेरौ, अपनी साध पुराऊँ ॥

लोचन रोम-रोम-प्रति माँगौं, पुनि-पुनि त्रास दिखाऊँ ।

इकटक रहैं पलक नहिं लागैं , पद्धति नई चलाऊँ ॥

कहा करौं छबि-रासि स्यामधन, लोचन द्वै नहिं ठाऊँ ।

एते पर ये निमिष सूर सुनि , यह दुख काहि सुनाऊँ ॥5॥


कहि राधिका बात अब साँची ।

तुम अब प्रगट कही मो आगैं, स्याम-प्रेम-रस माँची ॥

तुमकौं कहाँ मिले, नँद-नंदन, जब उनकैं रँग राँची ।

खरिक मिले, की गोरस बेंचत, की जब बिषहर बाँची ॥

कहैं बने छाँड़ौ चतुराई, बात नहीं यह काँची ।

सूरदास राधिका सयानी, रूप-रासि-रस-खाँची ॥6॥


कब री मिले स्याम नहिं जानौं ।

तेरी सौं करि कहति सखी री, अजहूँ नहिं पहिचानौं ॥

खरिक मिले, की गोरस बेंचत, की अबहीं, की कालि ।

नैननि अंतर होत न कबहूँ, कहति कहा री आलि ॥

एकौ पल हरि होत न न्यारे, नीकैं देखे नाहिं ।

सूरदास-प्रभु टरत न टारैं, नैननि सदा बसाही ॥7॥


स्याम मिले मोहिं ऐसैं माई ।

मैं जल कौं जमुना तट आई ।


औचक आए तहाँ कन्हाई ।

देखत ही मोहिनी लगाई ।


तबहीं तैं तन-सुरति गँवाई ।

सूधैं मारग गई भुलाई ।


बिनु देखैं कल परै न माई ।

सूर स्याम मोहिनी लगाई ॥8॥



तबहीं तैं हरि हाथ बिकानी ।

देह-गेह-सुधि सबै भुलानी ।


अंग सिथिल भए जैसें पानी ।

ज्यौं-ज्यौं करि गृह पहुँची आनी ।


बोले तहा अचानक बानी ।

द्वारैं देखे स्याम बिनानी ।


कहा कहौं सुनि सखी सयानी ।

सूर स्याम ऐसी मति ठानी ॥9॥



जा दिन तैं हरि दृष्टि परे री ।

जा दिन तैं मेरे इन नैननि, दुख सुख सब बिसरे री ।

मोहन अंग गुपाल लाल के, प्रेम-पियूष भरे री ।

बसे उहाँ मुसुकनि-बाँह लै, रचि रुचि भवन करे री ॥

पठवति हौं मन तिनहिं मनावन, निसदिन रहत अरे रही ।

ज्यौं ज्यौं जतन करति उलटावति, त्यौं त्यौं उठत खरे री ॥

पचिहारी समुझाई ऊँच-निच, पुनि-पुनि पाइ परे री ।

सो सुख सूर कहाँ लौं बरनौं, इक टक तैं न टरे री ॥10॥


जब तौं प्रीति स्याम सौं कीन्हीं ।

ता दिन तैं मेरैं इन नैननि, नैकुहुँ न लीन्हीं ॥

सदा रहै मन चाक चढ़्यौ, और न कछू सुहाई ।

करत उपाइ बहुत मिलिबे कौं, यहै बिचारत जाई ॥

सूर सकल लागति ऐसीयै,सो दुख कासौं कहियै ।

ज्यौं अचेत बालक की बेदन, अपने ही तन सहियै ॥11॥


ना जानौं तबहीं तैं मोकौं, स्याम कहा धौं कीन्हौ री ।

मेरी दृष्टि परे जा दिन तैं, ज्ञान ध्यान हरि लीन्हौ री ॥

द्वारे आइ गए औचक हीं, मैं आँगन ही ठाढ़ी री ।

मनमोहन-मुख देखि रही तब, काम-बिथा तनु बाढ़ी री ॥

नैन-सैन दै दै हरि मो तन, कछु इक भाव बतायौ री ।

पीतांबर उपरैना कर गहि ,अपनैं सीस फिरायौ री ॥

लोक-लाज, गुरुजन की संका, कहत न आवै बानी री ।

सूर स्याम मेरैं आँगन आए, जात बहुत पछितानी री ॥12॥


मैं अपनी मन हरत न जान्यौ ।

कीधौं गयो संग हरि कैं वह, कीधौं पंथ भुलान्यौ ॥

कीधौं स्याम हटकि है राख्यौ, कीधौं आपु रतान्यौ ।

काहे तैं सुधि करी न मेरी. मोपै कहा रिसान्यौ ॥

जबहीं तैं हरि ह्याँ ह्वै निकसे, बैरु तबहिं तैं ठान्यौ ।

सूर स्याम सँग चलन कह्यौ मोहिं, कह्यौ नहीं तब मान्यौ ॥13॥


स्याम करत हैं मन की चोरी ।

कैसैं मिलत आनि पहिलैं ही, कहि-कहि बतियाँ भोरी ॥

लोक-लाज की कानि गँवाई, फिरति गुड़ी बस डोरी ।

ऐसे ढंग स्याम अब सीख्यौ, चोर भयौ चित कौ री ॥

माखन की चोरी सहि लीन्ही, बात रही वह थोरी ।

सूर स्याम भयौ निडर तबहिं तैं, गोरस लेत अँजोरी ॥14॥


माई कृष्न-नाम जब तैं स्रवन सुन्यौ है री , तब तें भूली री मौन बावरी सी भई री ।

भरि भरि आवैं नैन, चित न रहत चैन, बैन नहिं सूधौ दसा औरही ह्वै गई री ॥

कौन माता,कौन पिता, कौन भैनी, कौन भ्राता, कौन ज्ञान , कौन ध्यान, मनमथ हई री ।

सूर स्याम जब तैं परैं परै री मेरी डीठि, बाम, काम, धाम, लोक-लाज कुल कानि नई री ॥15।


राधा तैं हरि कैं रंग राँची ।

तो तैं चतुर और नहिं कोऊ, बात कहौं मैं साँची ॥

तैं उनकौ मन नहीं चुरायौ, ऐसी है तू काँची ।

हरि तेरौ मन अबहि चुरायौ, प्रथम तुहीं है नाँची ।

तुम अरु स्याम एक हौ दोऊ, बाकी नाहीं बाँची ।

सूर स्याम तेरैं बस, राधा, कहति लीक मैं खाँची ॥16॥


तुम जानति राधा है छोटी ।

चतुराई अँग-अँग भरी है, पूरन-ज्ञान , न बुधि की मोटी ॥

हमसौं सदा दुराव कियौं इहिं, बात कहै मुख चोटी-पोटी ।

कबहुँ स्याम तैं नैंकु न बिछुरति, किये रहति हमसौं हठ ओटी ॥

नँद-नंदन याही कैं बस हैं, बिबस देखि बेंदी छबि-चोटी ।

सूरदास-प्रभु वै अति खोटे, यह उनहूँ तैं अतिहीं खोटी ॥17॥


सुनहु सखी राधा सरिको है ।

जो हरि है रतिपति मनमोहन, याकौ मुख सो जोहै ॥

जैसौ स्याम नारि यह तैसी, सुंदर जोरी सोहै ॥

यह द्वादस बहऊ दस द्वै कौ, ब्रज-जुचतिनि मन मोहै ॥

मैं इनकौं घटि बढ़ि नहीं जानति, भेद करै सो को है ॥

सूर स्याम नागर, यह नागरि, एक प्रान तन दो है ॥18॥


राधा नँद-नंदन अनुरागी ।

भय चिंता हिरदै नहिं एकौं, स्याम रंग-रस पागी ॥

हृदय चून रँग, पय पानी ज्यौं, दुविधा दुहुँ की भागी ।

तन-मन-प्रान समर्पन कीन्हौ, अंग-अंग रति खागी ॥

ब्रज-बनिता अवलोकन करि-करि, प्रेम-बिबस तनु त्यागी ॥

सूरदास प्रभु सौं चित्त लाग्यौ सोवत तैं मनु जागी ॥19॥


आँखिनि मैं बसै, जिय मैं बसै,हिय मैं बसत निसि दिवस प्यारी ।

तन मैं बसै, मन मैं बसै, रसना हूँ मैं बसै नँदवारौ ॥

सुधि मैं बसै, बुधिहू मैं बसै, अंग-अंग बसै मुकुटवारौ ।

सूर बन बसै, घरहु मैं बसै, संग ज्यौ तरंग जल न न्यारौ ॥20॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki