Fandom

Hindi Literature

राम जी की माया / अनिल जनविजय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


कोई बेचैन फिरता है, कोई घबराया घबराया

कयामत के दिन आए हैं, राम जी की माया ।


तनाव फैला हुआ है, देश भर में यहाँ वहाँ

जुल्म व सितम का एक सिलसिला चलाया ।


घर अंधेरे हो गए, गलियाँ दिखती हैं वीरान

शहरों को आग लगा दी, इन्सानों को जलाया ।


दूर-दूर तक जहाँ भी उनका कहर बरपा किया

जले गोश्त की बू औ' कोयला ही नज़र आया ।


पिछले कुछ समय से हंगामा है इस मुल्क में

मर्दों की टोपियाँ छिन गईं, औरतों का साया ।


(2003)

Also on Fandom

Random Wiki