Fandom

Hindi Literature

री, मेरे पार निकस गया सतगुर मार्‌या तीर / मीराबाई

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धानी

री, मेरे पार निकस गया सतगुर मार्‌या तीर।
बिरह-भाल लगी उर अंदर, व्याकुल भया सरीर॥

इत उत चित्त चलै नहिं कबहूं, डारी प्रेम-जंजीर।
कै जाणै मेरो प्रीतम प्यारो, और न जाणै पीर॥

कहा करूं मेरों बस नहिं सजनी, नैन झरत दोउ नीर।
मीरा कहै प्रभु तुम मिलियां बिन प्राण धरत नहिं धीर॥

शब्दार्थ = री = अरी सखी। पार =आर-पार। तीर-मार्‌या =रहस्य के शब्द द्वारा इशारे से बता दिया। चले नहिं = विचलित नहीं होता है। डारी = डाल दी। नीर =जल, आंसुओं से तात्पर्य है।

Also on Fandom

Random Wiki