FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER

हरि हरि हरि सुमिरन करौ । हरि चरनारबिंद उर धरौ ॥
हरि सुमिरन जब रुकमिनि कर्यौ । हरि करि कृपा ताहि तब बर्यौ ॥
कहौं सो कथा सुनौ चित लाइ । कहै सुनै सो रहै सुख पाइ ॥
कुंडिनपुर को भीषम राइ । बिश्नु भक्ति कौ तिहिं चित्त चाइ ॥
रुक्म आदि ताके सुत पाँच, रुकमिनि पुत्री हरि रँग राँच ॥
नृपति रुक्म सों कह्यौ बनाइ । कुँवरि जोग बर श्री जदुराइ ।
।रुक्म रिसाइ पिता सौं कह्यौ । जदुपति ब्रज जो चिरत मह्यौ ॥
रुक्मनि कौं सिसुपालहि दीजै । करि विवाह जग मैं जस लीजै ॥
यह सुनि नृप नारी सौं कह्यौ । सुनि ताकौं अंतरगत दह्यौ ॥
रुक्म चँदेरी बिप्र पठायौ । ब्याह काज सिसुपाल बुलायौ ॥
सो बारात जोरि तहँ आयौ । श्री रुकमिनि के मन नहिं भायौ
कह्यौ मेरे पति श्री भगवान । उनहिं बरौं कै तजौ परान ॥
यह निहचै करि पत्री लिखी । बोल्यौ बिप्र सहज इक सखी ॥
पाती दै कह्यौ बचन बाम । सूर जपति निसि दिन तुव नाम ॥
भीषण सुता रुकमिनी बाम । सूर जपति निसि दिन तुव नाम ॥1॥

द्विज पाती दै कहियौ स्यामहिं ।
कुंडिनपुर की कुँवरि रुकमनि, जपति तुम्हारे नामहिं ॥
पालागौं तुम जाहु द्वारिका, नंद-नंदनके धामहिं ।
कंचन, चीर-पटंबर देहौं, कर कंकन जु इनामहिं ॥
यह सिसुपाल असुचि अज्ञानी, हरत पराई बामहिं ।
सूर स्याम प्रभु तुम्हरौ भरोसौ, लाज करौ किन नामहिं ॥2॥

द्विज कहियौ जदुपति सौं बात बेद बिरुद्ध होत
कुंडिनपुर, हंस के अंस काग नियरात ॥
जनि हमरे अपराध बिचारहु, कन्या लिख्यौ मेटि गुरु तात ।
तन आत्मा समरप्यौ तुमकौं, उपजि परी तातैं यह बात ॥
कृपा करहु उठि बेगि चढ़हु रथ, लगे समै आवहु परभात ।
कृष्न सिंह बलि धरी तुम्हारी, लैबै कौं जंबुक अकुलात ॥
तातैं मैं द्विज बेगि पठायौ, नेम धरम मरजादा जात ।
सूरदास सिसुपाल पानि गहै, पावक रचौं करौं आघात ॥3॥

सुनत हरि रुकमिनि कौ संदेस ।
चढ़ि रथ चलै बिप्र कौं सँग लै, कियौ न गेह प्रवेस ॥
बारंबार बिप्र कों पूछत, कुँवरि बचन सो सुनावत ।
दीनबंधु करुना निधान सुनि, नैन नीर भरि आवत ॥
कह्यौ हलधर सौं आवहु दल लै, मैं पहुँचत हौं धाइ ।
सूरज प्रभु कुंडिनपुर आए, बिप्र सो जाइ सुनाइ ॥4॥

रुक्मिनि देवी-मंदिर आई ।
धूप दीप पूजा-सामग्री, अली संग सब ल्याई ॥
रखवारी कौं बहुत महाभट, दीन्हे रुकम पठाई ।
ते सब सावधान भए चहुँ दिसि, पंछी तहाँ न जाई ॥
कुँवरि पूजि गौरी बिनती करी, वर देउ जादवराई ।
मैं पूजा कीन्ही इहिं कारन, गौरी सुनि मुसकाई ॥
पाइ प्रसाद अंबिका-मंदिर, रुकमिनि बाहर आई ।
सुभट देखि सुंदरता मोहे, धरनि गिरे मुरझाई ॥
इहिं अंतर जादौपति आए, रुकमिनि रथ बैठाई ।
सूरज प्रभु पहुँचे दल अपनैं, तब सुभटनि सुधि पाई ॥5॥

आवहु री मिलि मंगल गावहु ।
हरि रुकमिनी लिए आवत हैं, यह आनँद जदुकुलहिं सुनावहु ॥
बाँधहु बंदनवार मनोहर, कनक कलस भरि नीर धरावहु ।
दधि अच्छत फल फूल परम रुचि, आँगन चंदन चौक पुरवाहु ॥
कदली जूथ अनूप किसल दल, सुरँग सुमन लै मंडल छावहु ।
हरद दूब केसर मग छिरकहु; भेरी मृदंग निसान बजावहु ॥
जरासंध सिसुपाल नृपति तैं , जीते हैं उठि अरघ चढ़ावहु ।
बल समेत तन कुसल सूर प्रभु, आए हैं आरती बनावहु ॥6॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki