Fandom

Hindi Literature

लघुमान लीला / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


मैं अपनैं जिय गर्व कियौ ।
वै अंतरजामी सब जानत देखत ही उन चरचि लियौ ॥
कासौं कहौ मिलावै को अब,नैकु न धीरज धरत जियौ ।
वैतौ निठुर भए या बुधि सौं, अहंकार फल यहै दियौ ॥
तब आपुन कौं निठुर करावति, प्रीति सुमिरि भरि लेति हियौ ।
सूर स्याम प्रभु वै बहु नायक , मोसी उनकैं कोटि सियौ ॥1॥

महा बिरह-बन माँझ परी ।
चकित भई ज्यौ चित्र-पूतरी, हरि मारग बिसरी ॥
सँग बटपार-गर्ब जब देख्यौ, साथी छोड़ि पराने ।
स्याम -सहर-अँग -अंग-माधुरो, तहँ वै जाइ लुकाने ।
यह बन माँझ अकेली ब्याकुल, संपति गर्ब छँड़ायौं ।
सूर स्याम-सुधि टरति न उर तैं यह मनु जीव बचायौ ॥2॥


राधा-भवन सखी मिलि आईं ।
अति व्याकुल सुधि-बुधि कछु नाहीं , देह दसा बिसराई ॥
बाँह गही तिहि बूझन लागीं, कहा भयौ री माई ।
ऐसी बिबस भई तू काहैं, कहौ न हमहिं सुनाई ॥
कालिहिं और बरन तोहिं देखी, आजु गई मुरझाई ।
सूर स्याम देखे की बहुरौ, उनहिं ठगौरी लाई ॥3॥


अब मैं तोसौ कहा दुराऊँ ।
अपनी कथा, स्याम की करनी, तो आगै कहि प्रगट सुनाऊँ ॥
मैं बैठी ही भवन आपनैं, आपुन द्वार दियौ दरसाऊँ ।
जानि लई मेरे जिय की उन, गर्ब-प्रहारन उनकौं नाऊँ ॥
तबहीं तैं ब्याकुल भई डोलति, चित न रहै कितनौ समुझाऊँ ।
सुनहु सूर गृह बन बयौ मोकौं, अब कैसैं हरि-दरसन पाऊँ ॥4॥


हमरी सुरति बिसारी बनवारी, हम सरबस दै हारी ।
पै न भइ अपने सनेह बस, सपनेहू गिरधारी ॥
वै मोहन मधुकर समान सखि, अनगन बेली-चारी ।
ब्याकुल बिरह व्यापी दिन-दिन हम, नीर जु नैननि ढारी ॥
हम तन मन दै हाथ बिकानी, वै अति निठुर मुरारी ।
सूर स्याम बहु रमनि रमन , हम इक ब्रत, मदन-प्रजारी ॥5॥


मैं अपनी सी बहुत करी री ।
मोसौं कहा कहति तू माई, मन कैं सँग मैं बहुत लरी री ॥
राखौं हटकि ,उतहिं कौ धावत, बाकी ऐसियै परनि परी री ।
मोसौं बैर करै रति उनसौ, मोकौ राख्यौ द्वार खरी री ॥
अजहूँ मान करौं, मन पाऊँ, यह कहि इत-उत चितै डरी री ।
सुनहु सूर पाँचगनि मत एकै, मैं ही मोही रही परी री ॥6॥


भूलि नहीं, अब मान करौं री ।
जातैं होइ अकाज आपनौ, काहैं बृथा मरौं री ॥
ऐसे तन मैं गर्ब न राखौं ।
चिंतामनि बिसरौं री ।
ऐसी बात कहै जो कोऊ, ताकैं संग लरौं री ।
आरजपंथ चलैं कह सरिहै, स्यामहिं संग फिरौं री ।
सूर स्याम जउ आपु स्वारथी, दरसन नैन भरौं री ॥7॥


माई मेरौ मन पिय सों यौं लाग्यौ, ज्यौं सँग लागी छाँहि ।
मेरौ मन पिय जीव बसत है, पिय जिय मो मैं नाहि ॥
ज्यौं चकोर चंदा कौं निरखत, इत-उत दृष्टि न जाइ ।
सूर स्याम बिनु छिन-छिन जुग सम, क्यौं करि रैन बिहाइ ॥8॥


अद्भुत एक अनूपम बाग ।
जुगल कमल पर गज बर क्रीड़त, तापर सिंह करत अनुराग ।
हरि पर सरबर, सर पर गिरिवर , गिर पर फूले कंज-पराग ।
रुचिर कपोत बसत ता ऊपर, ता ऊपर अमृत फल लाग ।
फल पर पुहुप, पुहुप पर पल्लव, ता पर सुक, पिक, मृग मद काग ।
खंजन, धनुष, चंद्रमा ऊपर, ता ऊपर एक मनिधर नाग ।
अंग-अंग प्रति और-और छबि, उपमा ताकौं करत न त्याग ।
सूरदास प्रभु पियौ सुधा-रस, मानौ अधरनि के बड़ भाग ॥9॥


भुज भरि लई हिरदय लाइ ।
बिरह ब्याकुल देखि बाला, नैन दोउ भरि आइ ॥
रैनि बासर बीचही मैं, दोउ गए मुरझाइ ।
मनौ बृच्छ तमाल बेली, कनक सुधा सिंचाइ ॥
हरष डहडह मुसुकि फूले, प्रेम फलनि लगाइ ।
काम मुरझनि बेली तरु की, तुरत ही बिसराइ॥
देखि ललिता मिलन वह, आनंद उर न समाइ ।
सूर के प्रभु स्याम स्यामा, त्रिबिध ताप नसाइ ॥10॥


ललिता प्रेम-बिबस भई भारी ।
वह चितबनि, वह मिलनि परस्पर , अति सोभा वर नारी ॥
इकटक अंग-अंग अवलोकति, उत बस भए बिहारी ।
वह आतुर छबि लेत देत वै, इक तैं इक अधिकारी ॥
ललिता संग सखिनि सौं भाषति , देखौ छबि पिय-प्यारी ।
सुनहु सूर ज्यौं होम अगिनि घृत, ताहूँ तैं यह न्यारी ॥11॥


राधेहिं मिलेहुँ प्रतीति न आवति ।
जदपि नाथ बिधु बदन बिलोकत, दरसन कौ सुख पावति ॥
भरि भरि लोचन रूप-परम-निधि, उरमैं आनि दुरावति ।
बिरह-विकल मति दृष्टि दुहूँ दिसि, संचि सरघा ज्यौं धावति ॥
चितवत चकित रहति चित अंतर, नैन निमेष न लावति ।
सपनौ आहि कि सत्य ईस यह, बुद्धि बितर्क बनावति ॥
कबहुँक करति बिचार कौन हौं, को हरि कैं हिय भावति ।
सूर प्रेम की बात अटपटी, मन तरंग उपजावति ॥12॥


स्याम भए राधा बस ऐसैं ।
चातक स्वाति, चकोर चंद ज्यौं, चक्रवाक रबि जैसें ॥
नाद कुरंग, मीन जल की गति, ज्यौं तनु कैं बस छाया ।
इकटक नैन अंग-छबि मोहे, थकित भए पति जाया ॥
उठैं उठत, बैठैं बैठत हैं, चलैं चलत सुधि नाहीं ।
सूरदास बड़भागिनि राधा, समुझि मनहिं मुसुकाहीं ॥13॥


निरखि पिय-रूप तिय चकित भारी ।
किधौं वै पुरुष मैं नारि, की वै नारि मैं ही हौं तन सुधि बिसारी ॥
आपु तन चितै सिर मुकुट, कुंडल स्रवन, अधर मुरली, माल बन बिराजै ॥
उतहिं पिय-रूप सिर माँग बेनी सुभग, भाल बेंदी-बिंदु महा छाजै ॥
नागरी हठ तजौ, कृपा करि मोहिं भजौ , परी कह चूक सो कहौ प्यारी ।
सूर नागरी प्रभु-बिरह-रस मगन भई, देखि छबि हँसत गिरिराजधारी ॥14॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki