Fandom

Hindi Literature

लालन, वारी या मुख ऊपर / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग जैतश्री

लालन, वारी या मुख ऊपर ।
माई मोरहि दौठि न लागै, तातैं मसि-बिंदा दियौ भ्रू पर ॥
सरबस मैं पहिलै ही वार्‌यौ, नान्हीं नान्हीं दँतुली दू पर ।
अब कहा करौं निछावरि, सूरज सोचति अपनैं लालन जू पर ॥

भावार्थ :-- सूरदास जी कहते हैं कि (माता यशोदा आनन्दमग्न कह रही हैं) `मैं अपने लाल जी पर न्यौछावर हूँ । सखी कहीं मेरी ही नजर इसे न लग जाय, इससे काजल की बिन्दी इसकी भौंह पर मैंने लगा दी है । इसकी दोनों दँतुलियों पर तो मैंने अपना सर्वस्व पहिले ही न्यौछावर कर दिया । अब सोचती हूँ कि अपने लाल जी पर और क्या न्योछावर करूँ ।'

Also on Fandom

Random Wiki