Fandom

Hindi Literature

लोगनि कहत झुकति तू बौरी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग नटनारायन

लोगनि कहत झुकति तू बौरी ।
दधि माखन गाँठी दै राखति, करत फिरत सुत चोरी ॥
जाके घर की हानि होति नित, सो नहिं आनि कहै री ।
जाति-पाँति के लोग न देखति और बसैहै नैरी ॥
घर-घर कान्ह खान कौ डोलत, बड़ी कृपन तू है री ।
सूर स्याम कौं जब जोइ भावै, सोइ तबहीं तू दै री ॥

भावार्थ :-- सूरदास जी कहते हैं -(कोई गोपी व्रजरानी से कहती है-)`लोगों के कहने से तुम पगली होकर खीझती हो! अपना दही-मक्खन तो गाँठ बाँधकर (छिपाकर) रखती हो और पुत्र चोरी करता घूमता है । जिसके घर की प्रतिदिन हानि होती है, वह आकर कहेगा नहीं ? अपने जाति-पाँति के लोगों को देखती नहीं हो ( उनका संकोच न करके उन्हें डाँटती हो, वे गाँव छोड़कर चले जायँगे तो) क्या दूसरे नये लोगों को बसाओगी? तुम तो बड़ी कृपण हो(तभी तो) कन्हाई भोजन के लिये घर-घर घूमता है । श्यामसुन्दर जब जो रुचे, वही तुम उसे उसी समय दिया करो ।'

Also on Fandom

Random Wiki