Fandom

Hindi Literature

लौट आ रे / कुँवर बेचैन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

लेखक: कुँवर बेचैन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

लौट आ रे !

ओ प्रवासी जल !

फिर से लौट आ !


रह गया है प्रण मन में

रेत, केवल रेत जलता

खो गई है हर लहर की

मौन लहराती तरलता

कह रहा है चीख कर मरुथल

फिर से लौट आ रे!


लौट आ रे !

ओ प्रवासी जल !

फिर से लौट आ !


सिंधु सूखे, नदी सूखी

झील सूखी, ताल सूखे

नाव, ये पतवार सूखे

पाल सूखे, जाल सूखे

सूख्सने अब लग गए उत्पल,

फिर से लौट आ रे !


लौट आ रे !

ओ प्रवासी जल !

फिर से लौट आ !


-- यह कविता deepak द्वारा कविता कोश में डाली गयी है।

Also on Fandom

Random Wiki