Fandom

Hindi Literature

वासन्ती दोहे / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

वसन्त द्वारे है खडा़, मधुर मधुर मुस्कान ।

साँसों में सौरभ घुला, जग भर से अनजान ।।1


चिहुँक रही सुनसान में, सुधियों की हर डाल ।

भूल न पाया आज तक, अधर छुअन वह भाल ।।2


जगा चाँद है देर तक, आज नदी के कूल ।

लगता फिर से गड़ गया उर में तीखा शूल ।।3


मौसम बना बहेलिया, जीना- मरना खेल ।।

घायल पाखी हो गए, ऐसी लगी गुलेल ।।4


अँजुरी खाली रह गई, बिखर गये सब फूल ।

उनके बिन मधुमास में, उपवन लगते शूल।।5

Also on Fandom

Random Wiki