Fandom

Hindi Literature

वाह पाटलिपुत्र ! / नागार्जुन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































रचनाकार: नागार्जुन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


क्षुब्ध गंगा की तरंगों के दुसह आघात...

शोख पुरवइया हवा की थपकियों के स्पर्श...

खा रही है किशोरों की लाश...

--हाय गांधी घाट !

--हाय पाटलिपुत्र !

दियारा है सामने उस पार

पीठ पीछे शहर है इस पार

आज ही मैं निकल आया क्यों भला इस ओर ?

दे रहा है मात मति को

दॄश्य अति बीभत्स यह घनघोर ।

भागने को कर रही है बाध्य

सड़ी-सूजी लाश की दुर्गन्ध

मर चुका है हवाखोरी का सहज उत्साह

वह गंगा, वाह !

वाह पाटलिपुत्र !


(1957 में रचित)

Also on Fandom

Random Wiki