Fandom

Hindi Literature

वे और हम / अरुण कमल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


कितने आज़ाद हैं वे लोग

जो रीठे के खोल में सूखी गुठली-सा

बज रहे हैं लगातार निर्द्वन्द्व

उन्हें छूएगी कौन हवा

उन्हें कहे कौन कि एक हाथ है बाहर

जो उन्हें बजाता है बार-बार


उन्हें कहे कौन की गति उनकी

उसी अदृश्य हाथ की गति है ।

मैं कहाँ हूँ उतना आज़ाद

मै उतना ही बँधा हूँ जितना आज़ाद

मैं गर्भ में पलते बच्चे-सा

बँधा हूँ

आज़ाद हूँ

मुझमें साँस बन रही है हर हवा ।

Also on Fandom

Random Wiki