Fandom

Hindi Literature

शाम-एक किसान / सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

आकाश का साफ़ा बाँधकर

सूरज की चिलम खींचता

बैठा है पहाड़,

घुटनों पर पड़ी है नही चादर-सी,

पास ही दहक रही है

पलाश के जंगल की अँगीठी

अंधकार दूर पूर्व में

सिमटा बैठा है भेड़ों के गल्‍ले-सा।


अचानक- बोला मोर।

जैसे किसी ने आवाज़ दी-

'सुनते हो'।

चिलम औंधी

धुआँ उठा-

सूरज डूबा

अंधेरा छा गया।

Also on Fandom

Random Wiki