Fandom

Hindi Literature

शायद आगा़ज़ हुआ फिर किसी अफ़साने का / शकील बँदायूनी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: शकील बँदायूनी

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

शायद आग़ाज़ हुआ फिर किसी अफ़साने का
हुक्म आदम को है जन्नत से निकल जाने का

उन से कुछ कह तो रहा हूँ मगर अल्लाह न करे
वो भी मफ़हूम न समझे मेरे अफ़साने का

देखना देखना ये हज़रत-ए-वाइज़ ही न हों
रास्ता पूछ रहा है कोई मैख़ाने का

बेताल्लुक़ तेरे आगे से गुज़र जाता हूँ
ये भी एक हुस्न-ए-तलब है तेरे दीवाने का

हश्र तक गर्मी-ए-हंगामा-ए-हस्ती है "शकील"
सिलसिला ख़त्म न होगा मेरे अफ़साने का

Also on Fandom

Random Wiki