Fandom

Hindi Literature

शृंगार है हिन्दी / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

खुसरो के हृदय का उदगार है हिन्दी ।

कबीर के दोहों का संसार है हिन्दी ।।

मीरा के मन की पीर बनकर गूँजती घर-घर ।

सूर के सागर- सा विस्तार है हिन्दी ।।

जन-जन के मानस में, बस गई जो गहरे तक ।

तुलसी के 'मानस' का विस्तार है हिन्दी ।।

दादू और रैदास ने गाया है झूमकर ।

छू गई है मन के सभी तार है हिन्दी ।।

'सत्यार्थप्रकाश' बन अँधेरा मिटा दिया ।

टंकारा के दयानन्द की टंकार है हिन्दी ।।

गाँधी की वाणी बन भारत जगा दिया ।

आज़ादी के गीतों की ललकार है हिन्दी ।।

'कामायनी' का 'उर्वशी’ का रूप है इसमें ।

'आँसू' की करुण, सहज जलधार है हिन्दी ।।

प्रसाद ने हिमाद्रि से ऊँचा उठा दिया।

निराला की वीणा वादिनी झंकार है हिन्दी।।

पीड़ित की पीर घुलकर यह 'गोदान' बन गई ।

भारत का है गौरव, शृंगार है हिन्दी ।।

'मधुशाला' की मधुरता है इसमें घुली हुई ।

दिनकर के 'द्वापर' की हुंकार है हिन्दी ।।

भारत को समझना है तो जानिए इसको ।

दुनिया भर में पा रही विस्तार है हिन्दी ।।

सबके दिलों को जोड़ने का काम कर रही ।

देश का स्वाभिमान है, आधार है हिन्दी ।।

Also on Fandom

Random Wiki