Fandom

Hindi Literature

शौक़ हर रंग रक़ीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला / ग़ालिब

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

शौक़ हर रंग रक़ीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला
क़ैस तसवीर के पर्दे में भी उरियाँ निकला

ज़ख़्म ने दाद न दी तंगी-ए-दिल की यारब
तीर भी सीना-ए-बिस्मिल से परअफ़्शाँ निकला

बू-ए-गुल नाला-ए-दिल दूद-ए-चराग़-ए-महफ़िल
जो तेरी बज़्म से निकला सो परिशाँ निकला

दिल-ए-हसरतज़दा था माईदा-ए-लज़्ज़त-ए-दर्द
काम यारों का बक़द्र-ए-लब-ओ-दंदाँ निकला

थी नौआमोज़-ए-फ़ना हिम्मत-ए-दुश्वारपसंद
सख़्त मुश्किल है कि ये काम भी आसाँ निकला

दिल में फिर गिरिया ने इक शोर उठाया "ग़ालिब"
आह जो क़तरा न निकला था सो तूफ़ाँ निकला

Also on Fandom

Random Wiki