Fandom

Hindi Literature

संक्रमण : गुलमोहर के फूल! / लावण्या शाह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

जेठ के ताप से झुलस झुलस कर ,
पेड ने उँडेल दिया जब अपना मन,
तब सैँकडो खिल उठे, हरी डाल पे,
लाल चटक गुलमोहर के फूल !

सँजो दिये टहनी पे अनगिनती,
मादक नव रूप ~ रँग, सँग
भर भर दे रहे हमे उमँग,
लाल लाल, गुलमोहर के फूल !

आकाश तक फैल गई लाली,
हुई सिँदुरी साँझ, मतवाली
बहती पवन सँग आन गिरे
माटी पे,गुलमोहर के फूल !

हर क्रिया घटती ना अकारण,
नवोन्मेष सरल व्याकरण
सीखाती प्रक्रुति दे उदाहरण
युँ ही खिलते,गुलमोहर के फूल !

Also on Fandom

Random Wiki